कुकर्म के बाद छात्र की गला घोंटकर हत्या

लखनऊ: बंथरा में दो दिन से लापता सातवीं के छात्र का शव गांव के बाहर स्थित एक बाग में अर्धनग्न हालत में मिला। शव पर कीड़े पड़ गये थे। कंट्रोल रूम पर सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और पड़ताल की। परिजनों ने गांव के चन्द्रशेखर पर कुकर्म व हत्या का आरोप लगाया। पुलिस ने आरोपित को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने गुनाह कबूल कर लिया। पड़ताल में सामने आया कि आरोपित दंगल दिखाने के बहाने छात्र को बाग में ले गया और गलत काम किया। विरोध करने पर हत्या की और फिर उसकी साइकिल तीन सौ में बेचकर घर आ गया था। पुलिस ने मृतक की साइकिल बरामद कर ली है।

थाना क्षेत्र में रहने वाले किसान का पन्द्रह वर्षीय बेटा एक विद्यालय में कक्षा-7 का छात्र था। घरवालों ने बताया कि रोजाना की तरह छात्र सोमवार सुबह साइकिल से स्कूल गया था। शाम तक वापस न आने पर घरवालों ने रिश्तेदार व परिचितों के यहां खोजबीन की लेकिन किशोर का कुछ पता नहीं चला। परिजनों ने आशंका जताते हुए चन्द्रशेखर के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने बिना देर किये गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर चन्द्रशेखर को हिरासत में लिया। वहीं, बुधवार सुबह घरवाले खोजबीन करते हुए भटगांव में रहने वाले रामखेलावन के बाग में पहुंचे। उक्त बाग में किशोर का शव अर्धनग्न हालत में झाड़ी में औंधे मुंह पड़ा मिला। बंथरा पुलिस ने घटनास्थल पर पड़ताल की। शुरुआती जांच से यह साफ हो गया कि किशोर के साथ कुकर्म किया गया और फिर गला घोंटा गया। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि पूछताछ में चन्द्रशेखर ने बताया कि किशोर ने कुछ दिन पहले खेत पर काम किया था।

मजदूरी मांगने पर कई बार उसके घर आया था।सोमवार को स्कूल से छुट्टी होने के बाद वह दंगल देखने जाने की बात कहकर रुपये मांग रहा था। बाग में मौका देख वह कुकर्म करने लगा। किशोर के शोर मचाने पर आरोपित चन्द्रशेखर ने पास में पड़े साड़ी के टुकड़े से गला घोंटकर हत्या कर दी। आरोपित ने कबूला कि हत्या के बाद वह छात्र की साइकिल लेकर दरोगाखेड़ा गया। वहां उसने कई लोगों से रुपयों की जरूरत की बात कहते हुए साइकिल बेचने की बात कही। इसी दौरान स्कूटर्स इण्डिया के पास रहने वाले प्रवीण मिश्रा ने उससे तीन सौ रुपये में साइकिल खरीद ली। पुलिस ने चन्द्रशेखर की निशानदेही पर प्रवीण के घर से साइकिल बरामद कर ली है।

पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया है।किशोर को ढूढ़ने के लिए परिजनों के साथ रहता था चन्द्रशेखर : परिजनों के मुताबिक किशोर के लापता होने के बाद वह चन्द्रशेखर के घर भी पूछताछ करने गये थे। इस दौरान घर पर मिला चन्द्रशेखर उनके साथ किशोर की खोजबीन करता रहा। ग्रामीणों की माने तो इस दौरान उसके परिजन जब भी रामखेलावन की बाग की तरफ जाते तो चन्द्रशेखर कोई न कोई बहाना करके उन्हें वहां से वापस ले आता था लेकिन बुधवार की सुबह जब शिवम के परिजन ढूढ़ते हुए रामखेलावन की बाग में पहुंचे तो चन्द्रशेखर उनके साथ नहीं था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper