कुम्भ मेला के लिए 469 लाख रुपये की धनराशि जारी

लखनऊ। राज्य सरकार ने कुम्भ मेला-2019 के लिए मेला प्रशासन इलाहाबाद द्वारा कराए जाने वाले विभिन्न निर्माण कार्यों हेतु 469.23 लाख रुपये की धनराशि द्वितीय किश्त के रूप में स्वीकृत किया है। तीर्थराज प्रयाग (इलाहाबाद) में 14 जनवरी से कुम्भ का आयोजन है। इसके लिए वहां तैयारियां चल रही हैं।

प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह की ओर से जारी शासनादेश में बताया गया है कि कुम्भ मेला-2019 के लिए मेला प्रशासन इलाहाबाद द्वारा कराए जाने वाले विभिन्न निर्माण कार्यों की कुल लागत 530 लाख रुपये की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान करते हुए इसके सापेक्ष प्रथम किश्त के रूप में 280 लाख रुपये की धनराशि जारी की गई थी। इस धनराशि में से वित्तीय वर्ष 2017-18 में 219.232 लाख रुपये की उपयोग न होने के कारण 31 मार्च, 2018 को यह धनराशि समर्पित कर दी गई थी।

इसी के क्रम में दूसरी किश्त के रूप में 469.23 लाख रुपये की धनराशि अवमुक्त की जा रही है। मेलाधिकारी कुम्भ मेला, इलाहाबाद को प्रेषित शासनादेश में कहा गया है कि इस धनराशि से निर्माण कार्यों की थर्ड पार्टी आडिट व निरीक्षण एवं प्रोजेक्ट मैनेजमेंट, वेबसाइट का विकास, सोशल मीडिया सेल एवं विभिन्न आईटी सर्विसेज की व्यवस्था तथा दो मोटर बोट की खरीद (वीवीआईपी एवं मानव सुरक्षा हेतु) की जाएगी।

मेलाधिकारी से कहा गया है कि इन सभी कार्यों को सितम्बर, 2018 तक पूरा करना होगा। इसके अलावा कुम्भ मेले के फण्ड से जो कार्य कराया जाए, उसकी पहचान अलग से हो, यह सुनिश्चित किया जाए। 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper