कृषक उत्पादन संगठन के सुद्धृणीकरण हेतु एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

लखनऊ: लखनऊ मैनेजमेंट एसोसिएशन के सहयोग से कृषि विभाग द्धारा कृषक उत्पादन संगठन ( FPO ) के सुद्धृणीकरण हेतु एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला का शुभारम्भ महेंद्र सिंह ( संयुक्त्य कृषि निर्देशक, कानपूर ) ने गणमान्य अतिथियों का स्वागत करके किया. इस कार्यशाला में अवोक इंडिया फाउंडेशन के अध्यक्ष एवं संस्थापक, प्रवीण द्धिवेदी ने उपस्थित ६ जनपदों के एफ०पी०ओ संचालको को वित्तीय अनुशासन के मुद्दे पर प्रकाश डाला. इस अवसर पर अंशुमाली द्धिवेदी ( संस्थापक – सेक्रेड रिवर एग्री टेक्नोलॉजीज लिमिटेड ) ने कार्यक्रम में आये १३२ एफ०पी०ओ संचालको को समझाया की वो कैसे बैकवर्ड और फॉरवर्ड मार्केटिंग लिंकेज को विकसित कर सकते हैं . मानसी वोहरा ( अवोक इंडिया) ने बताया की कम्पनीज एक्ट २०१३ के अंतर्गत कैसे एफ०पी०ओ की संरचना की गयी है और इसके दिशानिर्देश क्या हैं.

डॉ.जीतेन्द्र सिंह ( वैज्ञानिक, के०वी०के) ने भी संगठनो को एफ०पी०ओ के गठन तथा फायदों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारिया उपलब्ध करायी. वहीँ डॉ. महक सिंह ( निर्देशक , बीज एवं प्रक्षेत्र) ने तिलहन और बीज उत्पादन तकनीकों के बारे में भी समझाया. कार्यशाला चंद्रशेखर आज़ाद कृषि एवं प्रोद्योगिक विश्वविध्यालय कानपूर के लाल बहादुर शास्त्री कृषक सभागार में आयोजित की गयी जिसमे ६ जिलों से लगभग २५० लोगो ने भाग लिया. इस मौके पर संतोष कुमार, निष्कर्ष कटियार, डॉ.अरविन्द कुमार ( मृदा वैज्ञानिक) , कमलकांत त्यागी, डॉ.ए०के० सिंह ( निर्देशक, प्रसार, सी०एस०ए०यू) भी उपस्थित रहे और कई महत्वपूर्ण बातों से प्रतिभागियों को अवगत कराया. कार्यक्रम के अंत में रेनू चौधरी ( महानिर्देशक, लखनऊ मैनेजमेंट एसोसिएशन ) ने कार्यशाला में आये मुख्य अतिथिगण एवं एफ०पी०ओ संचालको का आभार व्यक्त किया. कार्यशाला का संचालनं अरविन्द कुमार ने किया.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper