कृषि उत्पादक संगठन योजना में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाई जाए: जिलाधिकारी

बरेली 4 जून । जिलाधिकारी शिवाकान्त द्विवेदी ने निर्देश दिए कि कृषि उत्पादक संगठन योजना के अन्तर्गत तीन सौ से अधिक किसानों को जोड़ा जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि केन्द्र सरकार एवं प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं में बैंकों के माध्यम से कृषकों को जोड़कर उन्हें योजनाओं से लाभान्वित किया जाए। जिलाधिकारी ने जिला कृषि अधिकारी को निर्देश दिए कि जनपद के छोटे कृषकों के साथ साथ बडे़ कृषकों को न्यूनतम खर्च पर खेती करने का कृषकों को प्रशिक्षण प्रदान कर जैविक खेती को बढ़ावा दिया जाए।

जिलाधिकारी कल कलेक्ट्रेट सभागार में कृषि उत्पादक संगठन एवं कृषि आधारभूत संरचना निधि की जनपद स्तरीय समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में अपर जिलाधिकारी नगर डॉ. आर.डी. पाण्डेय, मुख्य विकास अधिकारी श्री चन्द्र मोहन गर्ग, जिला विकास प्रबंधक (नाबार्ड) श्री धर्मेन्द्र मिश्रा, परियोजना निदेशक श्री तेजवंत सिंह, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक श्री एम.एम. प्रसाद, जिला कृषि अधिकारी श्री धीरेन्द्र सिंह चौधरी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी श्री एल.के. वर्मा, सहायक निदेशक मत्स्य सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी तथा कृषक उपस्थित रहे।

जिलाधिकारी श्री शिवाकान्त द्विवेदी ने जिला विकास प्रबंधक (नाबार्ड) से कहा कि कृषि आधारभूत संरचना निधि (ए.आई.एफ.) योजना के अन्तर्गत जनपद के समूहों की    महिलाओं को जोड़कर उन्हें लाभान्वित करने के प्रयास किए जाएं। जिलाधिकारी को जिला विकास प्रबंधक (नाबार्ड) ने अवगत कराया कि ए.आई.एफ. योजना के अन्तर्गत अब तक 39 उद्यमियों तथा समितियों को जोड़ा जा चुका है।

बरेली से एसी सक्सेना की रिपोर्ट

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper