केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन बोले- कोरोना संकट में देश किसी भी हालात का सामना करने को तैयार

नई दिल्ली: लॉकडाउन के तीसरे चरण के बावजूद देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं, लेकिन अन्य देशों में कहर मचाने वाला यह वायरस शायद भारत में उतना भयावह न हो। इस घातक बीमारी से अमेरिका, इटली, स्पेन, फ्रांस जैसे विकसित देशों अब तक हजारों लोगों की जान चली गई है। हालांकि, भारत में स्थिति उस स्तर तक नहीं पहुंचेगी। केंद्र सरकार का अनुमान तो यही कहता है। स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन के मुताबिक, ‘देश बुरे से बुरे हालात का सामना करने के लिए तैयार हो गया है।’ उन्‍होंने कहा कि ‘कई विकसित देशों में जैसे हालात बने, हम उस तरह की स्थिति भारत में बनती नहीं देख रहे हैं।’

उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि देश में कोविड-19 से होने वाली मृत्यु दर लगभग 3.3% बनी हुई है, जो कि पूरी दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर में शामिल है। उन्होंने बताया कि भारत में इस वायरस से उपचार के बाद ठीक होने की दर (रिकवरी रेट) 29.9% तक बढ़ गई है। मंत्री ने कहा कि ये बहुत अच्छे संकेत हैं।

भारत में मरीजों की संख्या पहुंची 60 हजार के करीब
भारत में शनिवार सुबह तक कोविड-19 संक्रमण से संक्रमित हुए लोगों की संख्या 59 हजार के पार हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, “अबतक 1,981 मौतों सहित कुल 59 हजार 662 लोग कोविड-19 से संक्रमित हुए हैं। वहीं, उपचार के बाद कुल 39 हजार 834 लोगों को पूर्ण रूप से स्वस्थ होने पर अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई।” देश मे सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज महाराष्ट्र में हैं। यहां अबतक 19,063 लोग कोरोना पीड़ित मिले हैं। महाराष्‍ट्र में 731 लोगों की मौत हुई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper