केंद्र सरकार के पास एयर इंडिया का कुल 33.69 करोड़ रुपये बकाया

नई दिल्ली: हाल ही में आरटीआई के जरिए सामने आई एक अहम जानकारी में पता चला है कि केंद्र सरकार के पास एयर इंडिया का कुल 33.69 करोड़ रुपये बकाया है. यह राशि इस साल 31 जुलाई तक की है. मालूम हो कि पिछले दिनों टाटा संस ने एयर इंडिया के लिए सबसे ज्यादा बोली लगाई थी, जिसके बाद वह एयरलाइंस कंपनी की नई मालिक बन गई थी.

आरटीआई के अनुसार, रक्षा मंत्रालय के ऊपर करीब 6.1 करोड़ रुपये एयर इंडिया कंपनी के बकाया हैं. यह राष्ट्रपति की फ्लाइट के लिए बकाया राशि है. जबकि गृह मंत्रालय की ओर से 7.1 करोड़ रुपये विभिन्न फ्लाइट्स के लिए बकाया हैं. वहीं, विदेश मंत्रालय के भी एयर इंडिया के तकरीबन 20 करोड़ रुपये बचे हुए हैं. इस तरह से कुल बकाया हिसाब 33.6 करोड़ रुपये का है.

इसके अलावा, सरकार से जुड़े सरकारी विभागों, एजेंसियां, लोकसभा सचिवायलय, राज्यसभा सचिवालय आदि को भी एयर इंडिया को भुगतान करना है. यह कुल राशि 268.8 करोड़ रुपये है.

बता दें कि यह आरटीआई लोकेश बत्रा ने इस साल दो अप्रैल को दाखिल की थी, जिसके बाद उसे एयर इंडिया की ओर से 14 अक्टूबर को जवाब दिया गया. इसमें बताया गया है कि केंद्र सरकार के किस मंत्रालय से कितनी राशि बकाया है. वीवीआईपी फ्लाइट्स के लिए एयर इंडिया को केंद्र द्वारा 31 जुलाई तक 33.69 करोड़ रुपये भुगतान किए जाने हैं.

बता दें कि पिछले दिनों जब सरकार की ओर से एयर इंडिया की बोली पर जानकारी दी गई थी तब बताया गया था कि टाटा संस ने 18 हजार करोड़ रुपये की बोली लगाई. इसके अलावा, अजय सिंह के कंसोर्टियम ने 15 हजार करोड़ रुपये की बोली लगाई थी. इस लिहाज से टाटा संस और अजय सिंह के कंसोर्टियम के बीच राशि का अंतर 2900 करोड़ से भी अधिक रहा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper