केंद्र सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार का कहना-पूरे देश में नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर

नई दिल्ली: देश में कोरोना की तीसरी लहर आने की बात कहने वाले केंद्र सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के. विजय राघवन का कहना है कि यह हर हिस्से में नहीं आएगी। राघवन ने कहा कि यदि जरूरी उपायों को अपनाया गया तो देश के हर हिस्से में कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी। इससे पहले उन्होंने गुरुवार को कहा था कि देश में कोरोना की तीसरी लहर जरूर आएगी। उनकी इस टिप्पणी के बाद देश में कोरोना का खतरा और बढ़ने की आशंकाएं जताई जाने लगी थीं। इस पर सफाई देते हुए राघवन ने शुक्रवार को कहा, ‘यदि सावधानी बरती गई तो यह हर जगह नहीं आएगी। महामारी के देश के तमाम हिस्सों में अलग-अलग पीक देखने को मिले हैं।’

विजय राघवन ने कहा, ‘कोरोना की लहरों और उसके आंकड़ों की बजाय इस बात पर चर्चा करना चाहिए कि आखिर लोकेशन, टाइमिंग और इसका असर क्या है। यदि हम कदम उठाते हैं तो हर जगह पर कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर का असर नहीं दिखेगा। यह इस बात पर निर्भर करता है कि कोरोना संकट से निपटने के लिए राज्य स्तर पर, जिलों में और स्थानीय स्तर पर गाइडलाइंस का किस तरह से पालन किया जाता है।’ उन्होंने कहा कि कोरोना के ऐसे मामलों से आसानी से निपटा जा सकता है, जिनमें लक्षण देखने को नहीं मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि यदि टेस्टिंग, ट्रीटींग और कंटेनिंग के नियमों को फॉलो किया जाता है तो तीसरी लहर के असर को रोका जा सकता है।

उन्होंने कहा कि भले ही यह कठिन है, लेकिन कोरोना संक्रमण के असर से हमें बचना है तो ऐसा करना होगा। विजय राघवन ने कहा, ‘सीधी बात है कि कोरोना का संक्रमण उस वक्त तेजी से फैलता है, जब उसे मौका मिलता है। लेकिन जब हम सावधानी बरतते हैं तो उसकी रफ्तार में कमी देखने को मिलती है।’ राघवन ने कहा कि जब वैक्सीनेशन तेज होगा और लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का सख्ती से पालन करेंगे तो कोरोना के फैलने की रफ्तार कम होगी। हालांकि कोरोना के संक्रमण की रफ्तार धीमी पड़ने का यह अर्थ नहीं है कि अब वह खत्म हो गया है। हम ढिलाई बरतेंगे तो कोरोना के केसों में एक बार फिर से इजाफा हो सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper