केंद्र सरकार जल्द करे आर्थिक पैकेज की घोषणा: राहुल गांधी

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (corona) की वजह से देशभर में लॉकडाउन और इससे होने वाली परेशानियों को लेकर कांग्रेस पार्टी (INC) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul gandhi) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। यह प्रेस कॉन्फ्रेंस उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की है। राहुल गांधी ने अपने संवाद में लॉक डाउन को लेकर हो रही परेशानियों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है। साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार से जल्द से जल्द आर्थिक पैकेज की घोषणा करने की मांग की है।

शराब की दुकानें नहीं होगी बंद! सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज की याचिका, कहा -होम डिलीवरी पर करें विचार

राहुल गांधी ने अपनी प्रेस वार्ता में कहा है कि ये समय रिस्क उठाने का है। भारत सरकार को हर गरीब और मजदूर के खाते में पैसा डालना चाहिए और इनके लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा करनी चाहिए। लेकिन सरकार ऐसा नही करना चाहती है वो ऐसा करने से घबरा रही है। साथ ही राहुल गांधी ने मांग की है पीएम केअर (PMCare) का ऑडिट भी करना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनता को मालूम होना चाहिए कि पीएम केअर में कितना पैसा आया है और कितना आना चाहिए और इसमें से कितना पैसा खर्च किया गया है। ये सारी बातें सरकार को देश की जनता को बताने चाहिए इसलिए इसका ऑडिट जरूरी है।

सरकार पर बरसते हुए राहुल ने कहा कि सरकार घबरा रही है की अगर तेज गति से पैसा खर्च किया जाता है तो रुपये कमजोर होगा। यह समय जमीनी स्तर पर पैसा पहुंचाने का है। नाकि सोचने का, ऐसा कर हम अपना समय बर्बाद कर रहे है। केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस वक्त सरकार लोगों का डर नहीं दूर कर पा रही है। आखिर लॉकडाउन कबतक रहेगा, सरकार को लोगों को साफ बताना होगा। कोरोना संकट सिर्फ एक फीसदी के लिए खतरनाक है, लेकिन 99 फीसदी के लिए ये डर बना हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोगों से बात कर उनका डर दूर करना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper