केजरीवाल ने पहले ही तय कर दिया था कुमार का भविष्य

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) के संस्थापक सदस्यों में से एक डॉ. कुमार विश्वास का भविष्य मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पहले ही तय कर दिया था। आप के इन शीर्ष नेताओं के बीच कई मुद्दों पर ठनती रही है। जानकारी के मुताबिक, दोनों नेताओं के बीच पिछले कई दिनों से संवाद भी नहीं हुआ।

कुमार विश्वास की ओर से अरविंद केजरीवाल से संपर्क भी किया गया, लेकिन मुख्यमंत्री ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। राज्यसभा में जाने की दावेदारी कर चुके कुमार को हाल में अरविंद ने एक ट्विट के जरिए इशारा किया था कि टिकट या पद चाहने वाले पार्टी छोड़ दें। कुमार के करीबियों के मुताबिक सबसे पहले पंजाब चुनाव में खालिस्तानी तत्वों से हाथ मिलाने, टिकट बंटवारे में घालमेल व दुर्गेश पाठक की कार्यशैली पर सवाल उठाने से अरविंद केजरीवाल नाराज हुए थे।

इसी के बाद आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की आंखों की किरकिरी कुमार विश्वास बन गए। सर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांगने से भी कुमार ने केजरीवाल को रोका, लेकिन वह नहीं माने। सीएम चाहते थे कि पीएम मोदी की राजनीति खत्म करनी है, तो सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने चाहिए। बाद में, पाकिस्तान के अखबार ने केजरीवाल के बयान का हवाला देते हुए भारत पर निशाना साधा।

तीसरी दरार कुमार के वी द नेशन नाम के वीडियो से हुई। इसमें कुमार ने तमाम राजनीतिक दलों पर कटाक्ष करते हुए च्आपज् को भी भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कटघरे में खड़ा कर दिया। आप में कुमार विरोधियों ने आरोप लगाया कि वीडियो की वजह से एमसीडी चुनाव में हार हुई। कुमार पर ये भी आरोप लगे कि उन्होंने दिल्ली सरकार का तख्तापलट करने की कोशिश की। इस आरोप पर कुमार कहते हैं कि उनकी छवि को बदनाम करने के मकसद से झूठ प्रचारित किया जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper