केजीएमयू के अन्नपूर्णा भोजनालय में 10 रुपये में मिलेगा खाना

लखनऊ ब्यूरो। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) में इलाज के लिए दूर-दराज से आये मरीजों और तीमारदारों को भूखा नहीं रहना पड़ेगा। चिविवि के गेट के पास अब तीमारदारों को महज 10 रुपये में भरपेट भोजन मिलेगा। धनवंतरि सेवा संस्थान ने इसका बीड़ा उठाया है। केजीएमयू में मंगलवार को सैकड़ों मरीजों और तीमारदारों को खाना बांटकर इसका शुभारम्भ किया गया।

धनवंतरि सेवा संस्थान द्वारा संचालित अन्नपूर्णा भोजनालय में कोई भी व्यक्ति 10 रुपये देकर भरपेट भोजन कर सकता है। इसका समय दोपहर 11 बजे से 01 बजे तक रहेगा।

धनवंतरि सेवा संस्थान के सचिव व केजीएमयू प्रास्थोडेन्टिस्ट विभाग के डॉ. नीरज मिश्रा ने बताया कि यहां पर आने वाले किसी भी भूखे व्यक्ति को वापस नहीं किया जायेगा। अगर उसके पास पैसा नहीं है तो भी उसे भोजन कराया जायेगा।

धनवंतरि सेवा संस्थान के प्रेरक अवधेश नारायण ने बताया कि यह समाज के सहयोग से अन्नपूर्णा भोजनालय की शुरूआत की गयी है। उन्होंने बताया कि धीरे-धीरे केजीएमयू के चिकित्सकों को भी इससे जोड़ा जायेगा।

उन्होंने कहा कि सेवा की भावना सबमें होती है केवल उस सेवा भाव को जगाने की आवश्यकता है। अगर चिकित्सक सोच लें तो केजीएमयू से कोई भी व्यक्ति बिना इलाज के और बिना भोजन के नहीं रह सकता।

उद्घाटन के बाद बलरामपुर अस्पताल के निदेशक डॉ. राजीव लोचन, सचिव डॉ. नीरज मिश्र, गौरव, आनन्द और संतोष पटेल, समेत धनवंतरि केन्द्र के कार्यकर्ताओं ने लोगों को खाना बांटा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper