केन्द्र सरकार बदल रही बाबा साहेब का बनाया संविधान: सावित्री बाईफुले

लखनऊ ब्यूरो। भाजपा की सदस्यता से इस्तीफा देने वाली सावित्री बाईफुले ने कहा कि केन्द्र सरकार ने बाबा साहेब के बनाये संविधान को बदलने का प्रयास किया। सरकार के लोग दलित व पिछड़ो को मिल रहे आरक्षण को समाप्त करने में लगे हुए है।

सावित्री बाईफुले शुक्रवार को लखनऊ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए केन्द्र सरकार पर आरोप लगाया कि दलित की आवाज सुनी नहीं जाती और जहां दलित की आवाज उठती है, उसे दबाया जाता है। उन्होंने दलित की आवाज उठाने के लिए भाजपा की सदस्यता ली थी।

उन्होंने कहा कि देश के भीतर दलित और बहुजन की आवाज सुनने वाला कोई नहीं है। दिल्ली में संविधान की प्रतियां जलाई गईं। यह देखते हुए सभी लोग खामोश रहे। दलित विरोधी हर जगह है, उनको जवाब देने के लिए वह तैयार है। इसके लिए वह किसी भी हद तक जाएगी। दलित को मिलने वाले आरक्षण के लिए उनकी लड़ाई जारी रहेगी। दलित अधिकार के लिए संघर्ष चलता रहेगा। अगर आरक्षण बना रहा तो फिर वह पुन: सांसद होगी।

प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमाओं को तोड़ा जा रहा है। आज तक कोई पकड़ा नहीं गया। कोई कार्यवाही नहीं हुई। प्रदेश सरकार का भय उन लोगों पर नहीं है, जो प्रतिमाएं तोड़ते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper