केरल के त्रिशूर में बोले पीएम मोदी- हमारा काम केवल सरकार बनाना नहीं, हम देश बनाने आये हैं

केरल: त्रिशूर में पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. उन्होंने कहा, ‘मुझे गुरुवायुर आने का सौभाग्य मिला, यह प्रेरणा का केंद्र है. मैं बीजेपी कार्यकर्ताओं और केरल के लोगों को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने लोकतंत्र के उत्सव में सक्रिय रूप से भाग लिया. जनता-जर्नादन ईश्वर का रूप है, ये इस चुनाव में देश ने भली-भांति देखा है.

राजनीतिक दल जनता के मिजाज को पहचान नहीं पाए लेकिन जनता ने बीजेपी और एनडीए के पक्ष में प्रचंड जनादेश दिया. मैं सिर झुकाकर जनता को नमन करता हूं. देश में चुनाव जीतने के बाद 130 करोड़ नागरिकों की विशेष जिम्मेदारी होती है इसलिए जो हमें जिताते हैं, वो भी हमारे हैं और जो इस बार हमें जिताने में चूक गए हैं, वो भी हमारे हैं.

पीएम ने कहा, ‘हम भाजपा कार्यकर्ता सिर्फ चुनावी राजनीति के लिए चुनाव मैदान में नहीं होते. हम 365 दिन अपने राजनीतिक चिंतन के आधार पर जन सेवा में जुटे रहते हैं. हम राजनीति में सिर्फ सरकार बनाने नहीं आए हैं. हम राजनीति में देश बनाने आए हैं. हमें जनप्रतिनिधि 5 साल के लिए जनता बनाती हैं. लेकिन हम जनसेवक हैं, जो आजीवन होते हैं और जनता के लिए समर्पित होते हैं.’

लोकसभा चुनाव में हार की वजहें तलाश रहा RJD, महंगा पड़ा सवर्ण आरक्षण का विरोध

पीएम ने कहा, ‘भारत की सांस्कृतिक विरासत के महात्म्य को बढ़ाने के लिए भारत सरकार की प्रसाद योजना के तहत केरल के 7 प्रोजेक्ट लिए गए हैं. गत 5 वर्षों में भाजपा सरकार ने टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए अनेक कदम उठाए, जिसका परिणाम अब सामने आ रहा है.’

उन्होंने कहा, ‘भगवान कृष्ण के जीवन के साथ पशु-प्रेम जुड़ा रहा है. हम देश के किसी भी कोने में जाएं, भारत की ग्रामीण अर्थव्यवस्था में पशुपालन का महत्वपूर्ण योगदान रहा है. भारत सरकार ने इस बार मछुवारों के लिए अलग मंत्रालय बनाकर ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने का बीड़ा उठाया है.’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper