केरल में कोरोना को लेकर स्थिति गंभीर,पड़ोसी राज्यों में बढ़ा संक्रमण का खतरा

तिरुवनन्तपुरम: केरल में कोरोना के बढ़ते मामलों ने देश की चिंता बढ़ा दी है। बीते 24 घंटे के भीतर देश के लगभग 41 हजार नये मामलों में से 33 हजार मामले केरल के ही हैं। वहीं केरल से अब पड़ोसी राज्यों तमिलनाडु (Tamil Nadu) और कर्नाटक (Karnataka) में भी संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है। कर्नाटक के कोलार जिले के एक नर्सिंग कॉलेज में 32 छात्र कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। इन सभी छात्रों का पिछले दो दिनों में कोरोना टेस्ट किया गया है। इनमें से ज्यादातर छात्र तमिलनाडु और केरल से हैं। स्थिति की गंभारता को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बुधवार को समीक्षा बैठक की।

केंद्र ने कर्नाटक और तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्रियों से कहा कि इन राज्यों में केरल की वजह से केस न बढ़े, इसके लिए पर्याप्त कदम उठाये जाएं। केंद्र ने कहा कि कर्नाटक और तमिलनाडु के वो जिले जो केरल से सटे हैं, वहां पर खास कदम उठाने की जरूरत है। साथ ही इन जिलों में वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज करनी पड़ेगी।

केरल में कोरोना को लेकर स्थिति लगातार गंभीर बनी हुई है. पिछले 24 घंटों में राज्य में कोरोना 32803 नए मामले सामने आए हैं जबकि 173 लगों की मौत हो गई है। इसी के साथ राज्य में एक्टिव मामलों की संख्या 2,29,912 हो गई है जबकि 20961 कोरोना से मौत हो गई है। इसके अलावा अब तक 3838614 लोग कोरोना से ठीक हो गए हैं। राज्य में स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए नई टेस्टिंग स्ट्रैटजी भी शुरू की जा रही है। राज्य में टेस्ट पॉजिटिविटी रेट फिलहाल 18.76 फीसदी है।

मीडिया सूत्रों के मुताबिक केरल में संक्रमण को रोकने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कई तरह के सुझाव दिए हैं, लेकिन सबसे अधिक लॉकडाउन पर काम करने को कहा है। इसके लिए पहले उन जगहों को चुनने को कहा है, जहां सबसे अधिक केस हैं। इन जगहों पर पूरी तरह से या आंशिक लॉकडाउन लागू करने की सलाह दी गई है। आपको बता दें कि देश में फिर कोरोना के 40 हजार से ज्यादा नए मामले आए हैं। पिछले 24 घंटे में Covid-19 के 41,965 नए मामले दर्ज किए गए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper