केले के साथ दूध का सेवन करने वाले हो जाएं सावधान! पड़ सकते हैं बीमार

प्राचीन काल से ही हमारे समाज में कमजोर और दुबले-पतले लोगों को ज्यादा तवज्जो नहीं दी जाती आई है. हमेशा से ही बलवान और तंदरुस्त लोगों को ही सम्मान मिला है. अपने आपको फिट रखना बहुत बड़ी बात है. इसके लिए लोग क्या-क्या नहीं करते, ज्यादातर लोग तो फिट रहने के लिए दूध और केले का सेवन करते हैं या फिर हैवी डाइट को फॉलो करते हैं लेकिन उन्हें यह नहीं पता कि कभी-कभी यह सेहतमंद डाइट भी उन्हें मौत के द्वार पर लाकर खड़ा कर सकती है. जी हाँ, सही पढ़ा आपने क्योंकि आज की आधी पीढ़ी मोटापे और आधी कुपोषण की शिकार है. ऐसे में जो कोई भी सुझाव देता है कि इसे खाने से आप पतले होंगे या मोटे होंगे, लोग उसे फॉलो करना शुरू कर देते हैं. तो आज हम आपको बताएंगे कि जो लोग अपनी डाइट में केले और दूध का सेवन करते हैं, उससे उन्हें क्या-क्या नुकसान होता है-

banana milk

पाचन क्रिया के लिए नुकसानदायक

एक शोध में पता चला है कि अगर आप दूध के साथ केला खाते हैं या फिर बनाना शेक पीते हैं तो इससे आपके पाचन तंत्र पर बुरा प्रभाव पड़ता है. इसके साथ ही आप अनिद्रा की समस्या से भी ग्रस्त हो सकते हैं. अगर आपको सेवन करना भी है तो दूध पीने के आधे या एक घंटे के बाद इसका सेवन करें.

अस्थमा के रोगी न करें सेवन

अगर आपको अस्थमा की समस्या है तो आप इसका सेवन न करें क्योंकि इसके सेवन से आपको कफ़ की समस्या होने का खतरा रहता है जो बाद में काफी गंभीर रोग बन सकता है.

साइनस और एलर्जी से हो सकते हैं ग्रस्त

विशेषज्ञों के अनुसार, दूध और केले का एक साथ सेवन करने से जठराग्नि (पेट की आग) बुझ जाती है. जिस वजह से पाचन क्रिया काफी धीमी हो जाती है.  ऐसे में शरीर में विषैले तत्व (Toxins) पैदा होने लगते हैं. जिस वजह से साइनस और एलर्जी जैसी बीमारियां होने का खतरा रहता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper