केवल चिन्मयानंद का ही क्याें, सभी बलात्कारियों के मुक़दमे वापस होने चाहिए?

दिल्ली ब्यूरो: साधु चिन्मयानन्द और साध्वी चिदर्पिता की कहानी शायद लोग भूल गए होंगे। 2011 में यह कहानी राष्ट्रीय स्तर पर छाई हुयी थी। शाहजहाँपुर स्थित मुमुक्षु आश्रम में रह रही चिदर्पिता ने महंत और बीजेपी नेता चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप लगाया था। देश में सनसनी फ़ैल गयी थी। इस संवाददाता ने तब खुद इस मसले को गंभीरता से कवर किया था और साध्वी से मुलाक़ात कर लंबा साक्षात्कार भी किया था। साध्वी ने महंत पर कई आरोप लगाए थे। अब इस मामले को लेकर फिर राजनीति होती दिख रही है। भाजपा के वरिष्ठ नेता स्वामी चिन्मयानंद पर चल रहे रेप के मुक़दमे काे याेगी सरकार ने हटाने का फैसला लिया है।

याेगी सरकार के इस फैसले पर सपा के कद्दावर नेता आज़म खान ने तीखा कटाक्ष किया है। उन्हाेंने कहा है कि केवल चिन्मयानंद का ही क्याें, देश में जितने भी बलात्कारी हैं, सबके मुकदमे वापस होने चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर 302 के मुकदमे वापस हो सकते हैं तो फिर लूट, आगजनी, दंगा-फसाद भड़काने के मुकदमे भी वापस हो सकते हैं। पुलिस गनर को मारने के मुकदमे वापस हो सकते है, तो रेप के मुकदमे वापस होने पर कोई एतराज नहीं होना चाहिए। अकेले चिन्मयानंद का मुकदमा वापस लेने से साक्षी महाराज के साथ बड़ा अन्याय होगा। मेरी मांग है कि पहले साक्षी का मुकदमा वापस हो, उसके बाद चिन्मयानंद का।

वहीं उन्नाव गैंगरेप मामले में बोलते हुए आज़म ने कहा कि यह मुकदमा भी वापस होना चाहिए। थाने, पुलिस और अदालतों की अब जरूरत क्या है। भारतीय जनता पार्टी को चाहिए कि सब को साथ लेकर चले, सारे अपराधियों के वोट लें। सब से चुनाव लड़वाएं। अदालतों के दरवाजे बंद कर दिए जाएं और जेलों के दरवाजे खोल दिए जाएं। गाैरतलब है कि स्वामी चिन्मयानंद पर 7 साल पहले उनकी एक शिष्या चिदर्पिता ने रेप का आराेप लगाया था। स्वामी चिन्मयानंद पर से मुकद्दमा हटाने के लिए राज्य सरकार की तरफ से इस आशय काे पत्र 9 मार्च काे जिला मजिस्ट्रेट शाहजहांपुर के कार्यालय में भेजा गया है। इस पत्र में लिखा गया है कि राज्य सरकार ने शाहजहांपुर काेतवाली में स्वामी चिन्मयानंद पर दर्ज धारा 376, 506 आईपीसी का केस वापस लिए जाने का फैसला किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper