केवल 6 गज की जगह में बना दिया तीन मंजिला घर, खूबसूरती देख चौंक गए सब

हमारा प्यारा भारत प्राचीन काल से ही दुनियाभर में अपनी संस्कृति और अद्भुत कला के लिए जाता है. जिसके चलते आज भी देश में आपको कहीं ना कहीं किसी ना किसी कोने में अद्भुत से अद्भुत कलाकारी देखने को मिल ही जायेगी है। चाहे उसमे ताजमहल हो, कुतुमिनार हो, या और कोई साईट हो, वही हमारे देश में इतनी कलाकर सख्स भी है जो अपने हुनर से अजीबोगरीब बाइक भी बना सकता है और कोई अजीबोगरीब मशीनें बनाता है। अब इसी प्रकार दिल्ली में भी एक अद्भुत कलाकारी देखने को मिली है जहा एक व्यक्ति ने केवल 6 गज की जमीन पर ही तीन मंजिला घर खड़ा कर दिया। जिसे देखर अब हर कोई हैरानी में है. चलिए जानते है इसके बारे में?

दरअसल यहाँ दिल्ली के बुराड़ी में एक कमाल का घर देखनो को मिला है और ये दिल्ली का सबसे छोटी जगह में बनाया गया घर बताया जा रहा है। अब इस घर की चर्चा इतनी चल रही है की इसको देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। एक्चुअल में घर केवल 6 गज जगह में बनाया गया है। केवल 6 गज जगह में ही 3 मंजिला घर सचमुच देखने में बहुत अद्भुत दिखाई देता है। और वाकई में ये एक कमाल की बात है..

इस घर की तारीफ में बताया गया की यह घर ना केवल बाहर से सुंदर दिखाई देता, बल्कि अंदर से भी काफी खूबसूरती से इसे डिजाइन किया गया है। इस घर के अंदर हॉल, किचन, बेडरूम और बाथरूम जैसी सभी सुविधाएं उपलब्ध है। वही कमाल की बात ये है की निचले फ्लोर से तीसरी मंजिल पर जाने के लिए इस घर में सीढ़ियां भी बनाई गई है। इस घर में रहने वाली पिंकी नाम की महिला का कहना है की उन्हें यह घर बहुत पसंद आया इसीलिए उन्होंने इस घर के मकान मालिक से घर किराए पर ले लिया। इस घर मैं रहने के लिए पिंकी प्रतिमाह 3500 रुपए किराया भी देती है।

बताया गया की इस घर को अरुण कुमार नाम के एक व्यक्ति ने स्वयं डिजाइन करके बनाया था। इसके बाद अरुण कुमार इस घर को पवन कुमार नाम के व्यक्ति को बेच दिया था। लेकिन फिलहाल में अरुण कुमार का कोई अता-पता नहीं है। इस घर के अड़ोस पड़ोस में रहने वाले लोग बताते हैं कि अरुण कुमार के ऊपर बिल्डर का काफी कर्ज वह चुका था इसलिए वह यहां से कहीं और चले गए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper