केवाईसी जनरेट कर महिला के खाते से उड़ाए 21 हजार

लखनऊ: साइबर जालसाज लगातार लोगों की गाढ़ी कमाई लूट रहे हैं। कृष्णानगर में साइबर जालसाज ने फर्जी तरीके से केवाईसी जनरेट कर महिला के खाते से तीन बार में करीब 21 हजार रुपये उड़ा लिए। मोबाइल पर मैसेज देख महिला के होश उड़ गये। उन्होंने बैंक व साइबर क्राइम सेल में शिकायत करने के बाद कृष्णानगर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज करायी है। वहीं, वजीरगंज में निजी फाइनेंस कम्पनीकर्मी के एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर जालसाज ने साढ़े नौ हजार रुपये पार कर दिये।

560/10 कृष्णानगर निवासी अरविंद कुमार बाजपेयी पत्नी मोमिता बाजपेयी व परिवार के साथ रहते हैं। मोमिता का बचत खाता यूको बैंक कृष्णानगर शाखा में है। उन्होंने उक्त बैंक से एटीएम की सुविधा ले रखी है। उनका कहना है कि साइबर जालसाजों ने 8 अक्टूबर को उनके खाते से 10 हजार रुपये निकाल लिए। इसके एक मिनट बाद भी 1426 रुपये और फिर कुछ देर बाद 10 हजार रुपये पार कर दिये गये। शाम को मोबाइल पर मैसेज मोमिता ने देखा तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गयी।

उन्होंने अगले दिन यूको बैंक में शिकायत की तो मैनेजर ने रिपोर्ट दर्ज कराने की सलाह दी। वे आनन-फानन में साइबर क्राइम सेल पहुंची और मामले की शिकायत की। मोमिता ने बताया कि उन्होंने न ही एटीएम कार्ड किसी को दिया था और न ही पिन कोड साझा किया था। कृष्णानगर पुलिस ने तहरीर पर गुरुवार को अज्ञात के खिलाफ आईटी एक्ट की रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

शुरुआती पड़ताल में सामने आया कि जालसाजों ने क्लोन बनाकर रकम दिल्ली से निकाली है। वहीं, मूल रूप से पुवाया शाहजहांपुर निवासी मो. आसिफ खान एक निजी फाइनेंस कम्पनी में लखनऊ में कार्यरत हैं। उनका बचत खाता आईडीबीआई बैंक में है। उनका कहना है कि करीब दस दिन पहले उनके खाते से जालसाज ने 9500 रुपये पार कर दिये।

मोबाइल पर मैसेज देख आसिफ बैंक पहुंचे और शिकायत की। पड़ताल में सामने आया कि रकम पूणो से निकाली गयी है। पीड़ित ने मामले की शिकायत एएसपी पश्चिम से की। एएसपी के आदेश पर वजीरगंज पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper