कॉन्वेंट स्कूलों को टक्कर देंगे यूपी के सरकारी स्कूल

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूल निजी स्कूलों से प्रतिस्पर्धा करेंगे। इसके लिए यूपी सरकार एक अप्रैल से एनसीआरटी पैटर्न पर पढ़ाई शुरू करेगी। यही नहीं स्कूलों में सुविधाएं बेहतर करने के लिए प्रदेश सरकार ने करीब 150 स्कूल चयनित किए हैं, जिन्हें कॉन्वेंट स्कूलों की तरह विकसित किया जाएगा। इसके साथ ही रोजगारपरक शिक्षा पर जोर दिया जाएगा, ताकि बच्चों का भविष्य उज्जवल हो सके। निजी स्कूलों की गुणवत्ता के आगे पिछड़ रहे सरकारी स्कूलों का स्तर उठाने के लिए शिक्षा विभाग नई कोशिशें कर रहा है।

बच्चों के बीच जाकर उनसे रायशुमारी भी शुरू कर दी गयी है। सरकार ने सरकारी स्कूलों के बच्चों को निजी स्कूलों के बच्चों से प्रतिस्पर्धा कराने के लिए एनसीआरटी का पैटर्न लागू करने का फैसला तो पहले ही ले लिया था। अब डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा कहते हैं कि एक अप्रैल से यह व्यवस्था लागू हो जाएगी। शिक्षा में सुधार को जरूरी मानते हुए वह कहते हैं कि उनका लक्ष्य साफ है।

उनकी सरकार बेहतर माहौल कायम करना चाहती है। इन 150 स्कूलों में वे हर सुविधाएं होंगीं, जो निजी स्कूलों में होती हैं। लगातार पिछड़ रहे सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों के लिए यह खुशखबरी है। जल्द ही सरकार एनसीआरटी पैटर्न पर शिक्षा देने के साथ ही नए सत्र से किताबें भी उपलब्ध कराएगी। बच्चों के व्यक्तित्व को ओवर ऑल निखारने का प्रयास करेगी, ताकि सरकारी स्कूल के बच्चे निजी स्कूलों के बच्चों से मात न खाएं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper