कोई स्टूडेंट मिस ना कर दे क्लास इसलिए बिकनी में पढ़ाती हैं मैडम!

नई दिल्ली: इंडिया में टीचर्स को गुरू की उपाधि दी गई है और गुरू को भगवान से भी ऊपर बताया गया है। ऐसा इसलिए कहा गया है क्योंकि एक टीचर ही बच्चों को सही मार्ग दिखाता है। बदलते समय के साथ परंपराएं भी बदल रही हैं। आज हम आपको एक ऐसे स्कूल के बारे में बताने जा रहे हैं जहां स्कूल टीचर्स बिकनी में बच्चों को पढ़ाती हैं। जी हां, इस स्कूल में टीचर्स बिकनी पहनकर बच्चों को पढ़ाती हैं। आइए आपको इस स्कूल के बारे में बताते हैं…

दरअसल हम बात कर रहे चीन की राजधानी बीजिंग की। जहां पर एक स्कूल में हॉट मॉडल्स बिकनी पहनकर स्टूडेंट्स को पढ़ाती हैं यह सुनने में जरूर आपको अटपटा लग रहा हो, लेकिन यह हकीकत है। दरअसल बीजिंग में एक स्कूल में हॉट मॉडल बच्चों को पढ़ा रहीं हैं। इस स्कूल में चीनी भाषा मंदारिन को सिखाया जाता है। इस स्कूल में सेक्सी मॉडल विदेशियों को मंदारीन भाषा की ABCD पढ़ा रहीं हैं।

वहीं स्कूल में हॉट मॉडल द्वारा बच्चों को पढ़ाए जाने का महिला संगठनो द्वारा विरोध किया जा रहा है। उनका कहना है कि इससे स्टूडेंट पर बुरा असर पड़ रहा है। आपको बता दें कि लोगों में ऑनलाइन क्लास लेने वाला के क्रेज का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि लोग मॉडल्स की एक भी क्लास मिस नहीं करते हैं। वहीं स्टूडेंट मे इस भाषा को सीखने के लिए इतना क्रेज बढ़ गया है कि वे किसी दूसरे स्कूल में तक दाखिला नहीं लेते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper