कोरोना का कहर : डिप्टी सीएम की चेतावनी, किस्तों में फीस नहीं ली तो स्कूलों पर होगी कार्रवाई

लखनऊ : यूपी के उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि प्रदेश में 90 फीसदी स्कूल वित्तविहीन हैं, जो स्कूल की फीस से चलते हैं. स्टाफ की सैलरी भी बच्चों से लिए जाने वाले शुल्क से निकलती है. ऐसे में स्कूलों को चाहिए कि अभिभावकों से किस्तों में फीस ले. वहीं, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा कि लॉकडाउन की अवधि में अप्रैल और मई की फीस के लिए अभिभावकों पर स्कूल दबाव न बनाएं. अभिभावक फीस देने में सक्षम हैं तो वह फीस जरूर दें लेकिन स्कूल जबरन फीस न वसूलें. जो स्कूल यह आदेश नहीं मानेंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाही की जाएगी.

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन में 10 जिलों बनारस, गौतमबुद्धनगर, कानपुर, आजमगढ़, फतेहपुर, गोरखपुर, आगरा, झांसी, गाज़ियाबाद व राजधानी लखनऊ के जिलाधिकारियों ने जबरन फीस वसूली पर सख्त आदेश देकर अभिभावकों को राहत दी थी.

डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि हम एक दो दिन में स्कूल स्टाफ की सैलरी को लेकर भी उचित निर्णय लेंगे, जिससे स्टाफ को भी आर्थिक संकट से ना जूझना पड़े. दूसरी ओर, जिलाधिकारी और उपमुख्यमंत्री के आदेश से कई स्कूल असोसिएशन ने सहमति जताई है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper