कोरोना के खिलाफ लड़ रहे भारत की मदद के लिए Pfizer ने बढ़ाए मदद के हाथ, 7 करोड़ डॉलर की दवाई भेजने का ऐलान

नई दिल्ली: कोरोना के खिलाफ लड़ रहे भारत की मदद के लिए अमेरिकी फार्मा कंपनी फाइजर ने मदद देने की घोषणा की है। कंपनी ने कहा है कि वह 7 करोड़ अमेरिकी डॉलर की दवाई भारत भेजेगी, जिससे कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मदद मिलेगी। वैश्विक दवा विनिर्माता फाइजर के चेयरमैन और सीईओ अल्बर्ट बूर्ला ने कहा कि कंपनी अपने अमेरिका, यूरोप और एशिया स्थित वितरण केंद्रों से सात करोड़ डॉलर (करीब 510 करोड़ रुपये) की दवाएं भारत के लिए भेज रही है।

उन्होंने फाइजर इंडिया के कर्मचारियों को भेजे मेल में कहा, हम भारत में कोविड-19 के हालात से अत्यधिक चिंतित हैं, और दिल से आपके, आपके प्रियजनों और भारत के सभी लोगों के साथ हैं।” उन्होंने यह मेल लिंक्डइन पर पोस्ट किया है। बूर्ला ने कहा, हम इस बीमारी के खिलाफ भारत की लड़ाई में भागीदार बनने के लिए प्रतिबद्ध हैं और अपनी कंपनी के इतिहास में सबसे बड़ी मानवीय राहत के लिए तेजी से काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि फिलहाल अमेरिका, यूरोप और एशिया के वितरण केंद्रों में फाइजर के सहयोगी इन दवाओं को तेजी से भारत भेजने के लिए प्रयास कर रहे हैं। बूर्ला ने कहा, ‘हम ये दवाइयां दान कर रहे हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि देश के हर सार्वजनिक अस्पताल में प्रत्येक जरूरतमंद कोविड-19 रोगी को फाइजर की दवाएं मिल सकें। उन्होंने कहा कि 7 करोड़ अमरीकी डालर से अधिक मूल्य की इन दवाओं को तुरंत उपलब्ध कराया जाएगा, और ‘‘हम सरकार तथा अपने एनजीओ साझेदारों के साथ मिलकर काम करेंगे।

बता दें कि देश में सोमवार को कोविड-19 के 3,68,147 नए मामले आए तथा 3417 और मरीजों की मौत हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सुबह आठ बजे अपडेट किए गए आंकड़ों के मुताबिक नए मामलों के साथ संक्रमितों की कुल संख्या 1,99,25,604 जबकि मृतक संख्या 2,18,959 हो गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper