कोरोना वायरस : गर्मियों में भी होगी लखनऊ यूनिवर्सिटी में पढ़ाई

लखनऊ : कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर शिक्षण संस्थानों के एकेडमिक कैलेंडर पर पड़ा है। पहले जहां लखनऊ यूनिवर्सिटी अप्रैल के पहले सप्ताह में खुलने की उम्मीद थी, वहीं अब 20 अप्रैल से इनके खुलने की उम्मीद है। ऐसे में यूनिवर्सिटी का सेशन एक माह लेट हो चुका होगा। इसका असर सेमेस्टर सिस्टम पर पड़ेगा और जून से शुरू होने वाला सेमेस्टर भी लेट हो जाएगा। ऐसे में सेमेस्टर को पटरी पर लाने के लिए सभी यूनिवर्सिटी जून में होने वाली समर वेकेशन न करने के प्रस्ताव पर काम कर रही हैं।

लखनऊ यूनिवर्सिटी के अधिकारियों का कहना है कि लाख ऑनलाइन क्लास करा लेने के बाद भी स्टूडेंट्स की पढ़ाई का नुकसान होगा। कोरोना के चलते 20-25 दिनों की पढ़ाई प्रभावित हो चुकी है। उसे समर वेकेशन की 15 दिन की छुट्टी में पूरा कराया जाएगा। रविवार को भी एक्स्ट्रा क्लास लेने की तैयारी है।

एलयू में मई में यूजी और पीजी के सेमेस्टर एग्जाम होने हैं साथ ही यूजी थर्ड इयर के एनुअल एग्जाम के साथ पीएचडी एंट्रेंस एग्जाम भी दोबारा शुरू होने हैं, जो कोरोना के कारण रद कर दिए गए थे। इस दौरान यूनिवर्सिटी को नए सेशन के एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम भी कराने हैं। इसके बाद इन सभी एग्जाम का मूल्यांकन कार्य भी कराया जाना है। ऐसे में यूनिवर्सिटी के लिए अगले तीन माह काफी बिजी रहेंगे। ऐसे में यूनिवर्सिटी समर वेकेशन में पढ़ाई कराने पर काम कर रही है।

इसके लिए एलयू प्रशासन ने अपने शिक्षकों को तैयार रहने को कह दिया है। स्टैंडबाई पर रखा शिक्षकों को एकेटीयू ने अपने सभी 15 हजार शिक्षकों को स्टैंडबाई पर रखा है। यहां शिक्षकों से कहा जा रहा है कि वे टीचिंग मैटेरियल लगातार ऑनलाइन उपलब्ध कराते रहें, जिससे जैसे ही लॉकडाउन खत्म हो, क्लास लेकर बाकी कोर्स को पूरा कराया जा सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper