कोरोना वायरस ने भगवान और भक्तो के बीच बढ़ाई दूरी

गया: कोरोना वायरस ने अब भक्तों और भगवान के बीच भी दू‎रियां बढ़ा दी है। दरअसल, गया में सरकार की एडवाइजरी के बाद महाबोधि मंदिर में पूजा के दौरान एक श्रद्धालु से दूसरे श्रद्धालु के बीच कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाएं रखने का निर्देश दिया गया है। यह दूरी संभावित संक्रमण को रोकने के लिए लागू की गई है। इसके अलावा हर आने जाने वाले पर्यटकों को लाइन लगाकर मंदिर के गर्भ गृह में प्रवेश कराया जा रहा है।

वहीं, भगवान बुद्ध के दर्शन करने वाले भक्त भगवान बुद्ध के प्रतिमा से 1 मीटर की दूरी पर ही प्रार्थना करके निकल रहे हैं। भक्तों को भगवान बुद्ध के प्रतिमा को स्पर्श कर पूजा करने के लिए मना किया गया है। महाबोधि मंदिर में पूजा करने आए पर्यटकों की काफी कमी आई है, वहीं जो पर्यटक महाबोधि मंदिर में प्रवेश कर रहे हैं, मंदिर में लगे सुरक्षाकर्मी उनकी थर्मल स्क्रीनिंग के द्वारा जांच कर रहे हैं और जांच के बाद ही उसे मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति दी जा रही है। हालांकि पर्यटक भी कोरोना वायरस को लेकर जागरूक हैं और मंदिर परिसर में मास्क लगाकर मंदिर का दर्शन कर रहे हैं।

बीटीएमसी के सचिव एन.दोरजे ने बताया कि पहले मंदिर के गर्भ गृह में पर्यटकों के द्वारा छूकर के प्रार्थना करते थे, लेकिन अभी सिचुएशन के अनुसार सुरक्षा कर्मियों को भी निर्देश दिया गया है कि पूजा करने आए पर्यटकों को छूने की इजाजत नहीं दें और 1 मीटर की दूरी पर हाथ जोड़कर प्रार्थना करें। उन्होंने कहा कि हमलोग मंदिर तो बंद नहीं कर सकते हैं, लेकिन जागरूकता के लिए हम लोग यह निर्देश लागू किया है, जो पर्यटक मंदिर में आते हैं और चेकिंग प्वाइंट पर हर एक व्यक्ति की जांच करने के बाद ही उसे आगे मंदिर में प्रवेश करने दिया जाता है।

शक होने पर उसे डॉक्टर के पास जांच के लिए भेजा जाता है। वही महाबोधि मंदिर घूमने आए पर्यटक रंजन, रेणु और रिकी सिंह ने बताया कि यहां पर अच्छी व्यवस्था की गई है। हम लोग सरकार के द्वारा जो निर्देश दिया गया है उसका पालन भी कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper