कोरोना वायरस : राजनीतिक दलों के मुख्यालय बंद, कार्यकर्ताओं-नेताओं के प्रवेश पर रोक

नई दिल्ली: कोरोनावायरस की वजह से दिल्ली में राजनीतिक पार्टियों के दफ्तर भी बंद कर दिए गए हैं, ताकि किसी भी प्रकार की आवाजाही न हो और कोरोनावायरस से बचाव हो सके। देश की राजधानी दिल्ली में 31 मार्च तक लॉकडाउन के निर्देश हैं। वहीं दिल्ली में जितने भी मुख्यालय हैं, उनके अंदर किसी को जाने की इजाजत नहीं दी जा रही है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का राष्ट्रीय मुख्यालय देश की राजधानी दिल्ली के दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर स्थित है, जहां कोरोनावायरस की वजह से सन्नाटा है। इस वक्त मुख्यालय में न कोई नेता है और न ही कोई कार्यकर्ता। सिर्फ गेट पर सुरक्षाकर्मी मौजूद हैं, जो कि मुंह पर मास्क लगाए बैठे हैं।

भाजपा मुख्यालय में इस वक्त सभी की एंट्री बंद है, चाहे मीडियाकर्मी हों या पार्टी के नेता। भाजपा मुख्यालय के बाहर बैठे एक सुरक्षाकर्मी से बात की। उसने बताया, “सभी लोगों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है और यहां अगले आदेश आने तक किसी को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।” वहीं दूसरी ओर 24 अकबर रोड स्थित कांग्रेस पार्टी के मुख्यालय में भी इस वक्त पूरी तरह से खामोशी छाई हुई है। जहां पहले पार्टी कार्यालय में नेताओं की कतारें लगा करती थीं, वहीं अब उन सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है।

कांग्रेस पार्टी के वयोवृद्ध नेता मोतीलाल वोरा ने बताया, “विदेशी पत्रकारों के कार्यालय में प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है और उन्हें अंदर नहीं आने दिया जाएगा। वहीं अगर कोई आम नागरिक मास्क और सैनिटाइजर लगाकर कांग्रेस दफ्तर आता है तो हम उससे मुलाकात करेंगे। हालांकि अब लोग समझ चुके हैं कि अभी बाहर नहीं निकलना चाहिए, इसी वजह से एहतियात के तौर पर हमने निर्देश दिए हैं।”

आम आदमी पार्टी (आप) के मुख्यालय पर भी इस वक्त अंदर से ताला लटका हुआ है और बाहर सड़क पर पार्टी के केवल पोस्टर ही दिखाई दे रहे हैं। पार्टी कार्यालय के गेट पर एक नोटिस भी चिपका हुआ है, जिसपर लिखा है, “कोविड-19 के चलते आम आदमी पार्टी कार्यालय में सभी जन संपर्क सुविधाओं को रोक दिया गया है।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper