कोरोना संक्रमण रोकने को रेलवे ने बनाया सैनिटाइजर रूम, इससे गुजरते ही शरीर हो जाएगा कीटाणुमुक्त

नई दिल्ली: पूरी दुनिया में तेजी से अपना पांव पसार रहे कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए भारतीय रेलवे ने एक सराहनीय कदम उठाया है। रेलवे ने एक सैनिटाइजर रूम (फ्यूमिगेशन टनल) बनाने में सफलता हासिल की है। दरअसल, रेलवे ने ट्रेन के कोच को कुछ इस तरह तैयार किया है कि इससे गुजरते ही पूरे शरीर पर कीटाणु नाशक स्प्रे का छिड़काव होगा और शरीर कीटाणुमुक्त हो जाएगा। इस प्रकार के सैनिटाइजर वैगन रूम का इस्तेमाल अस्पतालों, कारखानों, दफ्तरों और अन्य भीड़ वाले स्थानों पर बीमारी से सुरक्षित रहने के लिए किया जा सकता है।

रेल मंत्रालय के अनुसार इस फ्यूमिगेशन टनल को जगाधरी वर्कशॉप के मालडिब्बा शॉप, मिलराई शॉप और मशीन शॉप के कर्मचारियों द्वारा तैयार किया गया है। इसे प्रेशर पाईप के आगे सॉकेट और नोजल लगा कर बनाया गया है। मशीन शॉप के मुनीश कुमार और अजय कुमार ने इसे तैयार करने में मुख्य योगदान दिया है।
रेलवे ने बनाया सैनिटाइजर रूम

रेलवे के मुताबिक, जब कोई व्यक्ति इस सैनिटाइजर रूम में प्रवेश करेगा तो उस पर नोजलों द्वारा सैनिटाइजर की स्प्रे होनी शुरू हो जाएगी और आउटगेट तक जाते-जाते पूरा शरीर सैनिटाइज हो जाएगा। इस प्रक्रिया से न सिर्फ कोरोना बल्कि सभी तरह के वायरस/कीटाणु पूर्णतः नष्ट हो जाएंगे और वह व्यक्ति सुरक्षित हो जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper