कोरोना से जंग में जान गंवाने वाले योद्धाओं के परिजनों ने जताया मुख्यमंत्री योगी का आभार

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना योद्धाओं की मौत पर उनके परिवार की आर्थिक मदद के लिए 50 लाख रुपए का प्रावधान किया था। इसी क्रम में आगरा में ड्यूटी के दौरान अपनी जान गंवा देने वाले पुलिस विभाग के मुख्य आरक्षी सतीश चंद्र और परिवहन निगम के परिचालक दुजेंद्र प्रसाद शर्मा के परिवारों को 50-50 लाख रुपये की राशि दे दी गई है। इस दौरान परिजनों ने कहा कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जो काम किये वह सिर्फ और सिर्फ वही कर सकते हैं।

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में तमाम कोरोना योद्धा (डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टॉफ, पुलिस कर्मी, सफाई कर्मी,श्रमिकों को एक जगह से दूसरे जगह ले जा रहे चालक एवं परिचालक आदि) अपनी जान की परवाह किये बिना दूसरों में संक्रमण न फैले इस काम में जी जान से दिन रात डटे हुए हैं। आगरा के पुलिस विभाग के चालक सतीश चंद्र और परिवहन निगम के परिचालक दुजेंद्र प्रसाद शर्मा ऐसे ही लोगों में थे। काम के दौरान ही ये कोरोना से संक्रमित हुए। तमाम प्रयासों के बावजूद इनको बचाया नहीं जा सका। अपनी घोषणा के अनुसार सरकार ने इनके परिजनों के बैंक खाते में 50-50 लाख रुपये की राशि का ट्रांसफर कर दिए।

परिवहन निगम के परिचालक स्वर्गीय दुजेंद्र प्रसाद शर्मा के बेटे विनय शर्मा ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहा कि सरकार द्वारा दिए गए 50 लाख से उनका परिवार भविष्य सुरक्षित हो गया। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना काल में जो निर्णय मुख्यमंत्री योगी ने लिए हैं वो शायद ही कोई दूसरा सीएम ले पाता। पुलिस विभाग के चालक स्वर्गीय सतीश चंद्र के बेटे विरेश कुमार ने भी सरकार द्वारा भेजी गई 50 लाख की आर्थिक सहायता को लेकर सीएम योगी को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा इस कोरोना काल में सरकार द्वारा उठाया गया यह कदम सराहनीय है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper