नई दिल्ली. पुणे स्थित दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने वैक्सीन की कीमतों को लेकर बड़ा ऐलान किया है. बुधवार को कंपनी ने कहा है कि राज्य सरकार को कोविशील्ड वैक्सीन 400 रुपये प्रति डोज की दर पर मिलेगी. इसके अलावा निजी अस्पतालों में वैक्सीन की कीमत 600 रुपये प्रति डोज होगी. कंपनी ने उत्पादन के बाद राज्य और केंद्र सरकार के बीच वैक्सीन को 50-50 प्रतिशत बांटने का फैसला किया है.

कंपनी ने जानकारी दी है कि 50 प्रतिशत वैक्सीन केंद्र सरकार को दी जाएगी. इसके बाद 50 प्रतिशत वैक्सीन राज्य सरकार और निजी अस्पतालों को दी जाएंगी. सीरम इंस्टीट्यूट ने कोविशील्ड की कीमतों पर से भी पर्दा उठा दिया है. कंपनी का कहना है कि राज्य सरकार को यह वैक्सीन 400 रुपये प्रति डोज की दर से मिलेगी. जबकि प्राइवेट अस्पतालों को इसके लिए 600 रुपये देने होंगे.

बुधवार को कंपनी ने कोविशील्ड समेत अन्य वैक्सीन को लेकर भी चर्चा की. कंपनी की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि वैश्विक स्तर पर भारत में वैक्सीन के दाम कम हैं. इस दौरान अलग-अलग वैक्सीन के उदाहरण दिए गए हैं. कंपनी ने जानकारी दी कि अमेरिकी वैक्सीन के दाम 1500 रुपये हैं. जबकि, रूसी और चीन की वैक्सीन की कीमत 750 रुपये प्रति डोज है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने पहले कहा था कि कोविशील्ड की कीमत एक हजार रुपये प्रति डोज हो सकती है.

भारत में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने फिलहाल कोविशील्ड और हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक में तैयार हुई कोवैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है. कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका ने मिलकर तैयार किया है. वहीं, कोवैक्सीन को भारत बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानि ICMR ने मिलकर बनाया है. खास बात है कि आगामी 1 मई से भारत में वैक्सीन कार्यक्रम का नया चरण शुरू होने जा रहा है. सरकार ने अब 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों को वैक्सीन लगाने का फैसला किया है. फिलहाल 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगाया जा रहा है.