कौशाम्बी में दलित परिवार को दुर्गा पूजा पंडाल में आरती करने से रोका

कौशाम्बी। सराय अकिल के इमली गांव में एक दलित युवक और उसके पिता को दबंगों ने महज इसलिए पीट-पीट कर लहुलुहान कर दिया क्योंकि युवक ने दुर्गा पूजा पंडाल में आरती के समय बैठने की गुस्ताखी की थी। मंगलवार की देर रात हुई इस घटना की शिकायत पर सराय अकिल पुलिस ने दबंग के खिलाफ बुधवार को मार-पीट, धमकी देने और दलित उत्पीड़न की गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्यवाही शुरू कर दी है।

पीड़ित मगरू के मुताबिक उसका लड़का पिंटू मंगलवार की रात मोहल्ले में दुर्गा पूजा की आरती में शामिल होने गया था। यहां पहले से मौजूद ओम मिश्रा पिंटू को देवी पंडाल में बैठा देख नाराज हो गया और अपशब्दों का इस्तेमाल करते हुए तुरंत भाग जाने को कहा। देवी पंडाल से बाहर न जाने पर ओम ने पिंटू के साथ मार-पीट शुरू कर दी। शोर-शराबा सुन अपने बेटे को बचाने मगरू भी मौके पर पंहुचा। ओम, उसके पिता भुल्लर व अन्य लोगों ने बाप-बेटे को लाठी-डंडों से पीट-पीट कर लहूलुहान कर दिया। मार-पीट की इस घटना ने मगरू का सर फट गया।

पूजा पंडाल से बाहर निकालने और मारपीट कर घायल किये जाने का मामला जब पुलिस अधिकारियों के सामने आया तो उन्होंने सराय अकिल पुलिस को मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही किये जाने का निर्देश दिया। कौशाम्बी पुलिस के एडिशनल एसपी अशोक कुमार के मुताबिक सराय अकिल पुलिस को यह शिकायत मिली थी कि एक अनुसूचित जाति के व्यक्ति को दुर्गा पूजा पंडाल में आरती से रोका गया और उसके साथ कुछ लोगों ने मार-पीट की है। इस मामले पर उचित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर निष्पक्ष विवेचना के आदेश दिए गए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper