क्या आप जानतें है इस निर्वस्त्र गांव की कहानी, जहाँ कोई भी नहीं पहनते कपड़े

मुंबई: मनुष्य आदिकाल में निवस्त्र ही रहा करता था। सभ्यता के विकास के साथ साथ मनुष्य ने कपडे पहनना भी शुरु किया। आज यदि कोई निवस्त्र दिखें तो उसे या तो पागल माना जाएगा या फिर बेशर्म।। पर क्या आप जानते है एक ऐसे गांव (Weird Village) के बारे में जहां स्त्री हो या पुरुष सब निवस्त्र ही रहते है।क्या आप जानतें है इस निवस्त्र गांव की कहानी, जहाँ कोई भी नहीं पहनते कपड़े

जी हां ब्रिटेन में एक ऐसा गांव है जहां के स्त्री, पुरुष, बच्चे सब निवस्त्र ही रहते है। इस गांव के बारे में लोगों को बहोत कम जानकारी है। फिर भी दूनियां भर के प्रर्यटक यहां घुमने आते है। यहां आने वाले प्रर्यटकों को भी गांव के सभी नियम मानने होते है व उसी अनुसार निवस्त्र भी रहना पड़ता है।

इस गांव की स्थापना के समय से ही इसकों स्थापित करने वालों ने फैसला किया कि हम सब प्रकृति के करीब रहेगें। उनकी इसी सोच के चलते उन लोगों ने निवस्त्र रहने का फैसला किया। आप ये न सोचे कि शायद ये लोग गरीब होने की वजह से निवस्त्र रहते है। इनके पास आधुनिक जीवन की सब सुविधाएं है। सभी आर्थिक रुंप से भी सम्प्न्न है। अब आप सोच रहे होंगें कि ठंड के दिनों में ये क्या करते होगे तो आप को बता दे कि ज्यादातर लोग ठंड में भी इसी तरह रहते है। हां यदि किसी को ठंड के दिनों में कपड़े पहनने की ईच्छा हो तो वो पहन सकता है।

ब्रिटेन के इस गांव की सोशल मिडिया पर भी इसके अनोखे रिवाज के चलते खूब चर्चा है। आज के युग में जहां कपडो पर होने वाला खर्च भी लोगो की आमदनी का एक बडा हिस्सा होता है। लोग हमेशा सुन्दर व अलग दिखने के लिए डिजाइनर कपड़े बनवाते है। वही इस युग में लोग इस गांव के बारे में जानकर जरुर अजरज से भर जाते है।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper