क्या आप जानते हैं, भारत का हाथ है ब्लू कलर की जींस के पीछे

नई दिल्ली: दिखने में जींस कितना भी सिंपल क्यों ना हो लेकिन इसके पीछे की कहानी बहुत दिलचस्प है। इसके हर हिस्से से एक कहानी जुड़ी हुई है जो अपने आप में ही बहुत प्रचलित है। जींस एक ऐसा गार्मेंट है, जो आज के समय में शायद सबसे कॉमन और कंफर्टेबल आउटफिट कहा जा सकता है। लड़का हो या लड़की, हर किसी के वॉर्डरोब में कम से कम एक जींस तो पायी ही जाती है। इसकी मुख्य वजह है इसका ईज़ी मेंटेनेंस और कंफर्ट।

समय के साथ जींस के स्ट्रक्चर में काफी बदलाव और इसके स्टाइल्स में कफी बढ़ोत्तरी हुई है, लेकिन जींस कभी फैशन से बाहर नहीं हुई। कैसे पड़ा इसका नाम? एक प्रचलित ऐतिहासिक कहानी के अनुसार, जींस का आविष्कार 19वीं सदी में फ्रांस के एक छोटे से शहर Nimes में हुआ था। जिस फैब्रिक से जींस बनती है उसे फ्रेंच भाषा में “Serge” कहते हैं और इस तरह इनका नाम “Serge de Nimes” पड़ा और इसी तरह इसे शॉर्ट करके “denims” कहा जाने लगा।

पर ये तो हुई डेनिम्स की बात, लेकिन जींस का क्या? जल्दी ही डेनिम्स Europe में बेहद पॉप्युलर होने लगीं – और इसे सबसे ज़्यादा पंसद करते थे Genoa के सेलर्स यानि की नाविक। ये लोग जब भी फ्रांस जाते थे, अपने लिए थोक में डेनिम्स खरीद लिया करते थे। ये पैंट्स सेलर्स के बीच इतनी मशहूर हो गईं और पसंद की जाने लगीं कि सेलर्स को ट्रिब्यूट देते हुए इन्हें एक निकनेम दिया गया – और वो था जींस।

जींस को क्यों दिया गया ऐसा नीला रंग?

जानकारों की माने तो उनका कहना है कि दुनिया की सबसे पहली जींस नीले रंग में ही बनायी गई थी। इसकी मुख्य वजह ये थी कि शुरुआती दिनों में जींस मज़दूरों या बाहर ऐसे ही मेहनत भरे काम करने वाले लोगों द्वारा पहनी जाती थी। जिसकी वजह से इनके कपड़े जल्दी गंदे हो जाया करते थे। इसी बात को ध्यान में रखते हुए, दुनिया की पहली जीन्स को ऐसी गहरा नीला रंग दिया गया, जिससे इन पर जमी गंदगी का पता ना चल सके। इसके अलावा एक और मुख्य वजह थी, इंडिया से यूरोप को सस्ते दामों में नील यानि की इंडिगो का निर्यात। इंडिया से इंडिगो के निर्यात से पहले यूरोप में एक तरह के पत्तों से जींस को नीले रंग में रंगा जाता था, जिससे इनको हल्का नीला रंग मिलता था. इसके मुकाबले नील ना सिर्फ बेहद सस्ता था बल्कि इसका रंग भी बेहतर था। यूरोप में इसके पहुंचते ही इसने थोड़े ही समय में पुराने रंगने के तरीके को पूरी तरह से खत्म कर दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper