क्या चीन में प्रिंट हो रही भारतीय मुद्रा, कांग्रेस ने पूछा- सरकार स्पष्ट करे

नई दिल्ली: क्या भारतीय नोट चीन में छपते हैं? चीन की मीडिया में आई एक रिपोर्ट तो कुछ ऐसा ही इशारा कर रही हैं। यही वजह है कि कांग्रेस नेता शशि थरूर ने सरकार से स्पष्टीकरण की मांग की। दरअसल, चीनी अखबार की एक रिपोर्ट कहती है कि भारत, नेपाल, बांग्लादेश, मलेशिया, थाइलैंड समेत कई देशों की करंसी चीन स्थित प्रिंटिंग प्रेसों में छापी जा रही हैं।

यह रिपोर्ट बेल्ट ऐंड रोड प्रॉजेक्ट की वजह से चीन में अन्य देशों के नोट प्रिंटिंग के बढ़ते कारोबार और वहां की अर्थव्यवस्था पर इसके असर से संबंधित है। इसमें भारत का भी जिक्र है। हालांकि सरकार की तरफ से फिलहाल इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि भारतीय नोट चीन में छपते हैं या नहीं।

हालांकि, इस रिपोर्ट पर विरोध दल कांग्रेस आक्रामक हो गई है। कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने इस भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है। उन्होंने केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली और पीयूष गोयल को टैग करते हुए ट्वीट किया, अगर यह सच है तो इसका राष्ट्रीय सुरक्षा पर घातक असर हो सकता है। पाक के लिए इसकी नकल करना और आसान हो जाएगा। थरुर ने पूछा कि पीयूष गोयल और अरुण जेटली, कृपया स्पष्ट करें।

बहरहाल, इस रिपोर्ट की पुष्टि के लिए अखबार ने बैंक नोट प्रिंटिंग ऐंड मिंटिंग कॉर्पोरेशन के प्रजिडेंट लियू गुशेंग के 1 मई के एक इंटरव्यू का हवाला दिया है। गुशेंग ने बताया था कि साल 2013 से चीन में विदेशी नोटों की छपाई का काम शुरू हुआ और अब यहां की प्रिटिंग प्रेसों में भारत, नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, मलयेशिया, थाइलैंड, ब्राजील, पोलैंड सहित कई देशों के नोट छापे जाते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper