क्या भारत में मीडिया आंशिक रूप से आजाद है ?

अखिलेश अखिल

दुनिया के लोकतांत्रिक देशों में भारत लगातार पिछड़ता जा रहा है। अभी हाल में ही जारी रिपोर्ट में माना जा रहा है कि जिस वजह से भारत लोकतांत्रिक देशों की सूचि में निचे खिसक रहा है उसमे मुख्य वजह भारत में दक्षिणपंथी हिंदू संगठनों की बढ़ती हुई उग्रता ,गौरक्षकों का आतंक और मॉब लिंचिंग है। इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट के वार्षिक ‘ग्लोबल डेमोक्रेसी इंडेक्स’ में पिछले साल भारत 32 वें नंबर पर था।

इस रिपोर्ट में ‘मीडिया फ्रीडम’ को भी मापा गया है जिसमें पाया गया कि भारत में मीडिया ‘आंशिक रूप से आजाद’ है यानी मीडिया को पूरी तरह से स्वतंत्रता नहीं है। यहां पर पत्रकार को सरकार से खतरा है , सेना से खतरा है और कट्टरपंथी संगठनों से खतरा है इसलिए भी यहाँ के पत्रकार अपना काम बखूबी नही कर पाते हैं। बार 10 पायदान नीचे 42 में नंबर पर है।

बेहतर लोकतंत्र की सूची में नॉर्वे टॉप पर है जबकि उत्तरी कोरिया सबसे निचले पायदान पर। 165 देशों के इस सूची में भारत को भारी गिरावट का सामना करना पड़ा है। कहा गया है कि ‘कट्टरवादी धार्मिक विचारधाराओं ने भारत के लोकतंत्र को बुरी तरह से प्रभावित किया है, दक्षिणपंथी हिंदू संगठनों की मजबूती और उनसे सेक्युलर देश पर जो खतरा बढ़ा है उसके पीछे की बड़ी वजह हैं गौरक्षकों का आतंक और मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं; जहां पर अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया जाता है।

गौर करने की बात यह है कि जिन पैमानों पर यह लिस्ट तैयार की जाती है उसमें ‘चुनावी प्रक्रिया’ और ‘विविधता’ में भारत की स्थिति बेहतर है लेकिन अन्य चार पैमाने पोलिटिकल कल्चर, सरकारों का कामकाज, सरकार में भागीदारी और सिविल लिबर्टी जैसे पैमाने पर भारत की स्थिति बिगड़ी है; विशेषकर सिविल लिबर्टीज के पैमाने पर। कट्टरपंथी हिंदू संगठनों के आतंक से भारत अब दुनिया के सामने भी बदनाम होने लगा है। इन पर रोक लगाने में नाकाम मोदी सरकार को क्या अब इस बात की शर्म आएगी कि देश के लोकतंत्र की रक्षा के लिए इन पर लगाम लगाना जरूरी हो गया है।

यह रिपोर्ट बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर रही है। बीते कुछ सालों में देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था में यह गिरावट खतरे की घंटी के सामान माना जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper