क्या सलमान आसाराम के साथ जेल में रहेंगे ?

दिल्ली ब्यूरो: 20 साल पुराने काला हिरण शिकार मामले में आज जोधपुर की सीजीएम कोर्ट ने बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान को दोषी करार दिया है। इस मामले में उनके साथ सैफ अली खान, तब्बू, नीलम और एक स्थानीय शख्स को कोर्ट ने बरी कर दिया है। सलमान खान को जेल होती है तो उनका सेंट्रल जेल की बैरक नंबर दो में रखा जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि इसी बैरक में छात्रा से यौन उत्पीड़न का आरोपी आसाराम भी बंद है। यानि कि सलमान को आसाराम के साथ रहना पड़ सकता है। हालांकि इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। पिछली बार जब सलमान को सजा हुई तो उन्हें जेल के बैरक नंबर एक में रखा गया था। हालांकि तब वह सिर्फ सात दिन ही जेल में रहे थे। उन सात दिनों में उनकी पहचान कैदी नंबर 343 के रूप में थी।

बता दें कि ‘हम साथ साथ है’ फिल्म की शूटिंग 2 अक्टूबर 1998 हो रही थी। शूटिंग के दौरान सलमान खान पर काले हिरण का शिकार करने का मामला दर्ज किया गया था। साथ ही इस केस में सलमान को उकसाने के लिए सैफ अली खान, नीलम, तब्बू और सोनाली बेंद्रे का नाम भी शामिल है। सलमान वन्यजीव संरक्षण कानून की धारा 51 और अन्य कलाकार वन्यजीव संरक्षण कानून की धारा 51 तथा भारतीय दंड संहिता की धारा 149 (गैरकानूनी जमावड़ा) के तहत आरोप लगाए गए थे।

इस मामले में दो अन्य आरोपी दुष्यंत सिंह और दिनेश सिंह हैं। हिरण के शिकार के समय दुष्यंत सिंह कथित रूप से सलमान के साथ था जबकि दिनेश सिंह के बारे में कहा जाता है कि वह सलमान खान का सहायक है। कथित तौर पर जब काला हिरण पर गोलियां चलीं तो आवाज सुनकर ग्रामीण दौड़े आए। उन्होंने देखा कि सलमान खान जिप्सी चला रहे थे और हिरण के शव को छोड़कर तुरंत ही घटनास्थल से वे लोग फरार हो गए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper