क्रिसमस पर इन चर्चों में रहती है रौनक

नई दिल्ली: भारत के प्रसिद्ध धर्मों में एक ईसाई धर्म भी है। यूं तो क्रिसमस ईसाई धर्म के मानने वालों का त्योहार है, लेकिन इस पर्व को दूसरे धर्म के लोग भी बेहद उत्साह से मनाते हैं। क्रिसमस के अवसर पर चर्च की रौनक देखने को बनती है। हम आपको क्रिसमस के पर्व पर भारत के 5 प्रसिद्ध चर्च के बारे में बता रहे हैं, जहां जाकर आप अपने क्रिसमस को खास बना सकते हैं। बैसिलिका ऑफ बॉम जीसस चर्च, गोवा दुनिया के सबसे बेहतरीन चर्च में शुमार किया जाता है।

इस चर्च का निर्माण लगभग 300 साल पहले किया गया था। बॉम जीसस का मतलब एक अच्छा जीसस होता है। ये चर्च सेंट फ्रांसिस जेवियर का घर माना जाता है, क्योंकि इस चर्च में सेंट फ्रांसिस जेवियर की बॉडी अभी तक मौजूद है। इसे देखने दुनियाभर से लोग यहां आते हैं। वल्लारपदम चर्च, केरल को ‘द चर्च ऑफ ऑवर लेडी’ के नाम से जाना जाता है। ये एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। ये चर्च मदर मेरी को समर्पित है। सन् 1524 में इस चर्च को पोर्तुगीज ने बनवाया था। लेकिन इसे बाद में डच द्वारा नष्ट कर दिया गया था।

झज्जर हाईवे पर एक के बाद एक 50 गाड़ियों की टक्कर, 8 लोगों की मौत

इसके बाद सन् 1676 में इस चर्च को दोबारा से बनाया गया था। केरल में स्थित इस चर्च को भारत सरकार ने साल 1951 में राष्ट्रीय तीर्थ स्थल का दर्जा दिया था। इसी तरह कैथेड्रल चर्च, ओल्ड गोवा भारत के सबसे बड़े चर्च में से एक है। क्रिसमस के अवसर पर यहां हर साल हजारों लोग आते हैं। इस चर्च का निर्माण साल 1562 में शुरू हुआ और सन् 1619 में पूरा हुआ। इस चर्च की चौड़ाई 181 फीट है, जबकि, लंबाई 250 मीटर है। गोवा में स्थित रिस मगोस चर्च चर्च साल 1555 में बनाया गया था। ये चर्च मांडोवी नदी के किनारे स्थित है। ये चर्च सेंट जेरोम को समर्पित है। इतिहासकारों का मानना है कि ये चर्च एक प्राचीन मंदिर के ऊपर बना हुआ है। हर साल 6 जनवरी को इस चर्च में उत्सव का आयोजन किया जाता है।

मलयात्तूर चर्च, केरल एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। माना जाता है कि दक्षिण भारत में ईसाई धर्म की शुरुआत सेंट थॉमस ने ही की थी। ये सबसे पुराने चर्च में से एक माना जाता है। ये भी कहा जाता है कि ये चर्च सेंट थॉमस ने ही बनवाया था। पहाड़ी पर होने की वजह से ये चर्च यहां आने वाले लोगों को एक अच्छा अनुभव देता है। बता दें, इस चर्च को वैटिकन सिटी की आधिकारिक सीट से अंतरराष्ट्रीय दर्जा दिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper