खुलेआम मंडियों में बिक रहा गरीबों का राशन!

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की करोद मंडी में जिला प्रशासन के अधिकारियों ने 650 क्विंटल गेहूं जो सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत राशन दुकान में भेजा गया था, उसे कृषि उपज मंडी के व्यापारी विक्की ट्रेडर्स की गोदाम से जब्त किया गया है।

जिला प्रशासन के अधिकारियों ने जब मंडी के सचिव से सार्वजनिक वितरण प्रणाली का गेहूं कैसे मंडियों में आकर बिक रहा है। इस संबंध में पूछताछ की तो उन्होंने इसकी जांच कराने का भरोसा दिलाया। जांच अधिकारियों ने जब गोदाम के संचालक अयाज से पूछताछ की तो उसने कहा, साहब यदि हम ने जवाब दिया तो कई बड़े-बड़े लोग फंस जाएंगे। मैं तो इस खेल का बहुत छोटा आदमी हूं।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार कृषि उपज मंडी में रोजाना हजारों क्विंटल गेहूं और अन्य खाद्य सामग्री बिकने के लिए आती हैं। सरकारी गेहूं यहां पर 16 सौ रुपए क्विंटल में खरीदा जा रहा है| इसे बाद में 1800 क्विंटल तक व्यापारी बेच रहे हैं। सूत्रों के अनुसार सार्वजनिक वितरण प्रणाली की अधिकांश दुकानें भाजपा कार्यकर्ताओं के पास हैं। इन्हें मंत्रियों और विधायकों का पूर्ण संरक्षण होने से सार्वजनिक वितरण प्रणाली का गेहूं खुलेआम मंडियों में आकर बिक रहा है, किंतु इस पर कार्यवाही संभव नहीं हो पाती हैं।

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की मंडी में लगभग 10 लाख रुपए का राशन दुकानों का गेहूं पकड़ा गया। किंतु जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी और नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारी इस मामले में चुप्पी साध कर बैठे रहे। उन्होंने इस मामले में कोई रुचि नहीं ली और मामले को दबाने के प्रयास शुरू कर दिए गए।

मध्य प्रदेश सिविल सप्लाई कारपोरेशन के गोदाम से यह गेहूं ट्रक में लाया गया था। मिसरोद सेवा सहकारी समिति के नाम से जारी हुआ, यह गेहूं मंडी में जब्त किया गया है। इस मामले की जांच कराने की बात कलेक्टर भोपाल और अन्य अधिकारी कह रहे हैं। किंतु जिस तरीके से सार्वजनिक वितरण प्रणाली में हर माह करोड़ों रुपए का राशन खुलेआम बाजार में बेचा जाता है। उस पर रोक लगा पाना अधिकारियों के बस की बात नहीं है। अधिकारियों के अनुसार मंत्री और विधायक का संरक्षण होने के कारण जब भी कोई कार्यवाही शुरु होती है, दबाव आना शुरू हो जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper