खुले में किया शौच, तो बजेगी सीटी

नई दिल्ली: उत्तरी दिल्ली के इलाकों में रहने वाले ऐसे लोग जो खुले में शौच करते हैं उनको आने वाले दिनों में सीटी बजा कर ऐसा करने से रोका जाएगा। इसकी घोषणा खुद उत्तरी दिल्ली की मेयर प्रीति अग्रवाल ने की है। दरअसल, नए साल के पहले ही दिन मेयर प्रीति अग्रवाल ने नॉर्थ एमसीडी के तहत आने वाले सभी 104 वॉर्डों को खुले में शौचमुक्त घोषित किया है।

मेयर का कहना है कि इसके लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत नॉर्थ एमसीडी के क्षेत्र में पर्याप्त संख्या में सार्वजनिक और सामुदायिक शौचालयों की व्यवस्था बनाई गई है। मेयर प्रीति अग्रवाल के मुताबिक इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए उत्तरी दिल्ली में 314 सामुदायिक शौचालयों की व्यवस्था की गई है। इन शौचालयों में पुरुषों के लिए 3508 और महिलाओं के लिए 3232 सीटें हैं। इसके अतिरिक्त सार्वजनिक शौचालयों में पुरुषों के लिए 2063 और महिलाओं के लिए 3256 सीटें मुहैया कराई गई।

नॉर्थ एमसीडी ने इस बाबत पेट्रोल पंप, रेस्टोरेंट, मेट्रो स्टेशन और लोक निर्माण विभाग के ऐसे शौचालयों को भी शामिल किया है जो नॉर्थ एमसीडी के अधिकार क्षेत्रों में आते हैं। सभी सार्वजनिक और निजी एजेंसियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए जा चुके हैं जिससे आम नागिरकों को अपने परिसर में शौचालयों का इस्तेमाल बे-रोकटोक करने दें। मेयर ने नागिरकों से अपील की है कि वो सार्वजनिक स्थानों या खुले में शौच ना करते हुए सार्वजनिक शौचालयों का ही इस्तेमाल करें। लोगों को जानकारी उपलब्ध कराने के लिए निगम के क्षेत्र के सभी शौचालयों को गूगल नक्शे में अपडेट किया गया है जिससे नागरिक सुविधानुसार इनका इस्तेमाल कर सकें।

नॉर्थ एमसीडी में कमिश्नर मधुप व्यास का कहना है कि खुले में शौच से लोगों को रोकने के लिए ‘रोको, टोको, सीटी बजाओ’ अभियान शुरू किया, जिसके तहत हर वॉर्ड में एमसीडी एक दल का गठन करेगी जो खुले में शौच करने वालों को देखते ही सीटी बजाएंगे ताकि उन्हें ऐसा करने से रोका जा सके। कमिश्नर मधुप व्यास का कहना है कि इस ऐलान के साथ ही एमसीडी इस साल स्वच्छ सर्वेक्षण में बेहतर रैंकिंग हासिल करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper