खुले में कूड़ा फेंका तो देना होगा मुआवजा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ शहर में खुले में सार्वजनिक स्थानों पर कूड़ा फेंकने पर पर्यावरण मुआवजा देना पड़ेगा। ऐसा करते हुए पाए जाने पर नगर निगम आपसे 10,000 रपए का दंड लगाते हुए वसूली की कार्रवाई करेगा। इसके अलावा डोर टू डोर कूड़ा न देने पर भी नगर निगम बिल भेजकर यूजर चार्ज वसूल करेगा। नगर निगम ने इस सम्बंध में सार्वजनिक नोटिस जारी कर दी है।

नगरीय ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 के नियमों के तहत गंदगी करने पर कार्रवाई की जाएगी। राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल(एनजीटी) के आदेश के अनुसार कोई भी व्यक्ति, होटल, नागरिक, कसाई खाना, सब्जी मंडी आदि कूड़े को नाली या सार्वजनिक स्थानों पर फेंकना महंगा पड़ेगा। अपर नगर आयुक्त पीके श्रीवास्तव ने बताया ऐसा करते हुए पाए जाने पर पर्यावरण मुआवजा के रूप में 10,000 रपए का दंड आरोपति करने का प्राविधान है।

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 के अनुसार सार्वजनिक स्थान, सड़क, नाली, नाला, पार्क, खाली प्लाट इन सब जगहों पर कूड़ा फेंकना, डालना एवं जलाना दंडनीय अपराध है। नगर निगम ने सभी भवन स्वामियों को सार्वजनिक नोटिस जारी करते हुए कहा है कि उच्चतम न्यायालय के आदेश के क्रम में कूड़े के निस्तारण के लिए सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट नियम लागू है।

योजना के अंतर्गत घर-घर से कूड़ा एकत्र, परिवहन एवं निस्तारण की व्यवस्था लागू है। इसके लिए नगर निगम की ओर से ईको ग्रीन कंपनी को जिम्मेदारी दी गई है। नागरिकों को दो डस्टबिन में गीला कूड़ा व सूखा कूड़ा अलग अलग करके कंपनी को देना होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper