गंजेपन का अच्छा उपाय है कनेर का फूल, बस लगाने का सही तरीका जान लें

नई दिल्ली: झड़ते बालों का सबसे बड़ा कारण हमारी बदलती जीवनशैली और खान-पान में पोषक तत्वों की कमी है। इसके अलावा बालों की सही तरीके से देखभाल ना करने और हार्मोनल बदलाव से भी बाल झड़ने लगते हैं। महिला हो या पुरुष बालों के झड़ने की समस्‍या सभी को परेशान करती है। बदलते मौसम और जगह में बदलाव के कारण भी कुछ लोगों के बाल गिरने लगते है। यूं तो 50 से 100 बालों का झड़ना आम बात है। लेकिन अगर बालों का झड़ना सामान्‍य से अधिक हो तो ये गंभीर समस्‍या है।

बहुत कम लोग जानते हैं कि हमारे आसपास ऐसी बहुत सारी चीजें हैं, जिनका इस्तेमाल करने से आप सुंदर त्वचा और लंबे बाल पा सकेंगे। जैसे की झड़ते बालों के लिए कनेर के फूलों की पत्ते बहुत ही कारगार इलाज है और इससे प्याज की तरह जलन भी नहीं होती। कनेर के फूलों की पत्तों में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जिससे आपके सिर पर बाल वापस उगाए जा सकते हैं। आप भी अगर झड़ते बालों से या गंजेपन से परेशान हैं तो ये उपाय आपके लिए किसी चमत्कार से कम नहीं है। जान लिजिए किस तरह करना है इसका इस्तेमाल।

सबसे पहले लाल या पीली कनेर के फूलों के 60-70 ग्राम के पत्ते लें। इन पत्तों को साफ कपड़े से साफ करें, पत्तों को गिला ना करें। अब एक लीटर सरसों के तेल, या नारियल के तेल या फिर Olive Oil में पत्तों के छोटे टुकड़े करके डालें। अब तेल को गरम कर लें, जब तक सारे पत्ते जल कर काले ना हो जाएं तब तक उन्हें गरम करना है। इसके बाद पत्तो को निकाल कर तेल को शीशे की बोतल में रख लें।

अब रोजाना इस तेल को थोड़ा-थोड़ा करके उस जगह पर लगाएं जहां बाल कम हैं या जहां के बाल उड़ गए हैं। साथ ही हल्के हाथों से 2-3 मिनट की मालिश भी करें। आप चाहें तो रात को सोत समय भी अपने सिर में ये तेल लगा सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper