गजब तकनीकी: प्लेटफॉर्म में हुआ बदलाव, ट्रेन आते ही लाइट चालू और जाते ही बंद

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे यात्रियों को नए अनुभव देने के साथ-साथ बिजली बचत पर भी खास ध्यान दे रही है। इसके लिए रेलवे तकनीक का सहारा ले रही है। इस कड़ी में पश्चिम मध्य रेलवे ने स्वचालित लाइट कंट्रोल सिस्टम लगाया है। इसके जरिए ट्रेन के आते ही स्टेशन पर सारी लाइट जलेंगी और ट्रेने के जाते ही 70 फीसद बंद हो जाएंगी। सिग्नल तकनीक की मदद से ये व्यवस्था संचालित होगी।

मध्य प्रदेश के जबलपुर रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म पर ये व्यवस्था लागू की गई है। रेलवे के मुताबिक प्लेटफॉर्म नंबर-1 पर शाम 12 घंटे में 200 यूनिट बिजली की खपत होती है लेकिन अब इस योजना के तहत 80 यूनिट प्रति दिन बिजली की खपत ही होगी। हरदा रेलवे स्टेशन में ये प्रयोग सफल हुआ जिसके बाद इसे भोपाल के रेलवे स्टेशन पर इंस्टॉल किया गया है। रेलवे स्टेशन पर अमूमन 30 फीसदी लाइटें जलती रहती हैं।

लेकिन ट्रेन की आते ही नई व्यवस्था के तहत 100 फीसदी लाइटें जल उठेंगी। पश्चिम मध्य रेलवे की पीआरओ के मुताबिक जैसे ही ट्रेन प्लेटफॉर्म से निकल जाएगी 70 फासदी लाइटें अपने आप बंद हो जाएंगी। इससे रेलवे के खर्च में भी कटौती होगी क्योंकि कोरोना संकट और लॉकडाउन के बाद रेलवे की कमाई भी प्रभावित हुई हैं। कुछ ही ट्रेनों का संचानल किया जा रहा है। कोरोना संकट में वायरस के फैलाव को रोकने के लिए भी रेलवे ने तकनीक का सहारा लिया है।

कोरोना की रोकथाम के लिए थर्मल स्क्रीनिंग पर विशेष जोर दिया जा रहा है। रेलवे में बिना थर्मल सक्रीनिंग के यात्रियों ट्रैवल करने की इजाजत नहीं। इसी कड़ी में अब रेलने एक रोबोट के जरिए थर्मल स्क्रीनिंग की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper