गडकरी ने बुनियादी ढांचे के विकास के लिए केंद्र, राज्यों के बीच सहयोग का आह्वान किया

नई दिल्ली: केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को देश में बुनियादी ढांचे के विकास के लिए केंद्र और राज्य सरकारों के बीच सहयोग का आह्वान किया। उन्होंने अपने मंत्रालय द्वारा आयोजित दक्षिण क्षेत्र के लिए ‘पीएम-गति शक्ति’ पर एक सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा, “राज्य और केंद्र के बीच सहयोग और संचार को बढ़ाने की जरूरत है।”

दिनभर चलने वाले इस कार्यक्रम में कार्यक्रम के विभिन्न पहलुओं पर पैनल चर्चा हुई, जिसमें केंद्र और राज्यों के अधिकारी और हितधारक शामिल थे। कार्यक्रम में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल, लक्षद्वीप, महाराष्ट्र, पुडुचेरी, तमिलनाडु और तेलंगाना के प्रतिनिधि शामिल हुए।

गडकरी ने कहा कि भारत के 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के सपने को पूरा करने में बुनियादी ढांचा विकास महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। उन्होंने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए राज्यों के सुझावों का स्वागत किया।

पुडुचेरी की उपराज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने अपने संबोधन में कहा कि मल्टी मोडल कनेक्टिविटी लोगों और सामानों की आवाजाही के लिए कनेक्टिविटी की सुविधा प्रदान करेगी, जबकि मुख्यमंत्री एन. रंगासामी ने पुडुचेरी आने वाले लोगों के लिए यातायात की भीड़, हेलीपैड सेवाओं और हवाईअड्डे की सुविधाओं को कम करने के लिए एलिवेटेड कॉरिडोर परियोजना के महत्व के बारे में बताया।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. बोम्मई ने कहा कि केंद्र और राज्यों की बड़ी मेगा परियोजनाओं में सहयोग और समन्वय का समय आ गया है। उन्होंने केंद्र से निवेश को अधिकतम करने के लिए मंजूरी में तेजी लाने और वित्त क्षेत्र में नियमों में ढील देने का आग्रह किया।

राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने सम्मेलन के दौरान अब तक की उपलब्धियों, कार्यान्वयन के लिए कार्य योजना और संबंधित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में रसद और बुनियादी ढांचे के विकास में सुधार के बारे में अपनी प्रस्तुति दी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper