गणतंत्र दिवस कार्यक्रमों के चलते स्थगित हो सकती हैं हजार से ज्यादा उड़ानें

नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस पर होने वाले कार्यक्रमों के मद्देनजर दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (डीआईएएल) से 18 से 26 जनवरी तक सुबह 10:30 से दोपहर 12:15 तक आने वाली और जाने वाले सभी घरेलू उड़ानों को स्थगित करने के लिए कहा गया है। गणतंत्र दिवस कार्यक्रम की सुरक्षा के मद्देनजर हर साल नौ दिन तक दिल्ली के ऊपर के हवाई रास्ते को बंद कर दिया जाता है। ऐसे में ज्यादातर उड़ानों को अपनी समयावधि बदलने को कहा जाता है।

हालांकि इस बार इन नौ दिनों में दिल्ली एयरपोर्ट पर कोई भी फ्री स्लॉट न होने की वजह से डीआईएएल से ऐसी सभी उड़ानों को स्थगित करने के निर्देश दिए हैं। बताया जा रहा है कि इन नौ दिनों में सुबह 10:30 से दोपहर 12:15 तक आने वाली या जाने वाली करीब सौ फ्लाइटें कैंसिल हो सकती हैं। वहीं इंटरनेशनल विमानन कंपनियों से अपनी फ्लाइट्स के समय बदने के लिए कहा गया है।

इस फैसले के बाद एयरलाइंस कंपनियां खुश नहीं हैं। एयर इंडिया ने बताया कि डीआईएएल ने उससे सात जाने वाली और पांच आने वाली फ्लाइट कैंसिल करने के लिए कहा गया है। एयर इंडिया के एक सीनियर अधिकारी ने बताया हम इस मामले को डीआईएएल के सामने उठाएंगे। अचानक इस तरह फ्लाइट्स कैंसल नहीं की जा सकती हैं। अन्य एयरलाइंस ने इस मुद्दे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है कि उन्हें कितनी उड़ानें स्थगित करनी पड़ेंगी, लेकिन वे भी डीआईएल के सामने इस मुद्दे को उठाने का मन बना रही हैं।

इन सर्दियों में ‘प्रोफाइल शेड्यूल’ नाम के नए स्लॉट मैनेजमेंट सिस्टम के तहत एयरपोर्ट के तीन रनवे एक घंटे में करीब 73 फ्लाइट्स हैंडल कर रहे हैं। सूत्रों की मानें तो इस फैसले के बाद रोजाना करीब 100 फ्लाइट कैंसल करनी पड़ सकती हैं। इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से रोजना करीब 1100 उड़ाने संचालित होती हैं। उड़ानों लकी संख्या में 10 फीसदी की कमी आने से बाकी की उड़ानों के किराए पर इसका असर पड़ सकता है। हालांकि स्थगित होने वाली उड़ानों की संख्या के बारे में डीआईएएल ने कोई जानकारी नहीं दी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper