गरीबी से मजबूर इस लड़की ने पार की हदें, रेसिंग ड्राइवर से बन गई पार्न स्टार, पढ़िए पूरी कहानी

कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया की पूर्व सुपरकार ड्राइवर और रेसर ने रेसिंग छोड़ कर एडल्ट इंडस्ट्री यानी पॉर्न फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया है। हालांकि पॉर्न की दुनिया में काम कर के खुश भी है। उनका कहना है कि रेसिंग में पैसा नहीं था। गरीबी की हालत हो गई थी। अब एडल्ट इंडस्ट्री में नाम, दाम और काम तीनों मिल रहे हैं।

जानकारी के अनुसार 25 वर्षीय रेसर ने पिछले हफ्ते एक इंटरव्यू में कहा कि ये मेरे जीवन का सबसे बेहतरीन फैसला था। इसने मेरी लाइफस्टाइल ही बदल दी है। उन्होंने कहा कि उनके घरवाले भी इस काम में उनका सपोर्ट कर रहे हैं। रेना ने बताया कि मेरे पापा को मुझपर गर्व है। क्योंकि अब मैं पूरे घर की आर्थिक रूप से मदद कर पा रही हूं। पहले मैं परिवार की मदद पैसे से नहीं कर पाती थी।

रेनी ने बताया कि पैसों की कमी की वजह से मुझे मोटर स्पोर्ट छोड़ना पड़ा। रेसिंग में पैसे की कमी थी। जिस वजह से परिवार के लिए दिक्कत आ रही थी। रेनी ने बताया कि उसने सुपर2 सीजन में 17 रेस में भाग लिया। सिर्फ एक रेस में बाहर हुई। बाकी सभी रेस में वो टॉप-10 फिनिशर्स में रही हैं।

जानकारी के अनुसार रेनी ग्रेसी ने अपना रेसिंग करियर 2015 में शुरू किया था। तब उन्होंने स्विस ड्राइवर सिमोन डे सिल्वेस्त्रो के साथ पार्टनरशिप की थी।रेनी कहती हैं कि मैंने रेसिंग छोड़ दी है, लेकिन रेनी दूसरी इंडस्ट्री में रेसिंग करने के लिए उतर चुकी है। मैं पॉर्न इंडस्ट्री में अच्छा नाम भी कमाऊंगी और पैसे भी।

उन्होंने बताया कि रेसिंग के काम में सीजनल पैसे मिलते थे। लेकिन अब पॉर्न इंडस्ट्री में हर हफ्ते रेनी 25 हजार डॉलर यानी 18.88 लाख रुपए कमा रही हैं। यानी महीने में 75.52 लाख रुपए। रेनी कहती है कि मैं इतनी जल्दी मोटरस्पोर्ट्स नहीं छोड़ती लेकिन 2017 में मुझे ड्रैगन रेसिंग से पांच राउंड के बाद हटा दिया गया। उससे मेरा मन खराब हो गया और मैंने सोचा कि अब काम बदल दिया जाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper