गर्भवती हथिनी की मौत का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, CBI से जांच कराने की मांग

नई दिल्ली: केरल में गर्भवती हथिनी की मौत का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका लगाई गई है, जिसमें अदालत की निगरानी में हथिनी की मौत मामले की जांच सीबीआई या विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने की मांग की गई है.

यह याचिका वकील अवध बिहारी कौशिक ने दायर की है. इस याचिका में कहा गया कि जिस तरह गर्भवती हथिनी की पटाखे से भरे अनानास को खाने से मौत हुई है, वो भयानक, दुखद, क्रूर और अमानवीय कृत्य है. लिहाजा सुप्रीम कोर्ट को इसमें फौरन दखल देना चाहिए. याचिका में कहा गया कि यह घटना अपनी तरह की पहली घटना नहीं है. इससे पहले भी इसी तरह की घटनाएं सामने आ चुकी हैं, जिसमें केरल के कोल्लम जिले में अप्रैल 2020 में एक और हथिनी की मौत हो गई थी.

आपको बता दें कि केरल के मल्लपुरम जिले के एक गांव में गर्भवती हथिनी पहुंच गई थी. उस भूखी हथिनी ने वहां पटाखा भरा हुआ अनानास खा लिया था. इससे उसका मुंह और जबड़ा बुरी तरह से जख्मी हो गया था. इसके बाद हथिनी वेलियार नदी पहुंची, जहां तीन दिन तक पानी में मुंह डाले खड़ी रही. बाद में उसकी और गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत हो गई.

गर्भवती हथिनी की हत्या के मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है. केरल के वन मंत्री के. राजू ने कहा कि हत्या में कई लोग शामिल थे और सभी लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा. पुलिस और वन विभाग जांच कर रही है. हथिनी की हत्या को लेकर देशभर में आक्रोश है. इस मुद्दे पर जमकर सियासत भी हो रही है. बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने इस मामले को लेकर कांग्रेस के पूर्व सांसद राहुल गांधी और केरल सरकार पर जमकर हमला बोला. वहीं, कांग्रेस पार्टी ने भी पटलवार किया है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper