गर्मी दिखाने लगी तेवर, इस हफ्ते 40 डिग्री पहुंच सकता है पारा

कानपुर: मौसम की उठापटक के बीच जनपद में मंगलवार को हवाओं की रफ्तार कम होने से पारे में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। तापमान बढ़ने से दिन में सड़कों में भीड़ भाड़ भी कम दिखी। मौसम विभाग का कहना है कि आसमान साफ होने व हवाओं की धीमी रफ्तार से तापमान में इजाफा हुआ है। आने वाले दिनों में गर्मी और लोगों को सतायेगी। इस सप्ताह में पारा 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। बारिश की कोई संभावना है।

चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. अनिरूद्ध दुबे ने बताया कि आसमान साफ होने से सूर्य की किरणें सीधे पृथ्वी पर पड़ रही हैं और तापमान में बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है। मंगलवार को अधिकतम तापमान 36.3 और न्यूनतम तापमान 20.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

सुबह की आर्द्रता 66 फीसदी और दोपहर की आर्द्रता 41 फीसदी रही। उत्तरी हवाएं चल रहीं हैं जिनकी रफ्तार 6.7 किलोमीटर प्रति घंटा रही। मौसम वैज्ञानिक डा. अनिरुद्ध दुबे ने कहा जिस तरह से मौसम बदल रहा है उससे संभावना है कि इस सप्ताह तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। वायुदाब बढ़ने से स्थानीय स्तर पर हवाओं की रफ्तार बढ़ सकती है पर बारिश की कोई आसार नहीं हैं।

मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि अब हवाओं की दिशाएं बदलने से रोजाना तापमान में वृद्धि हो रही है, जिससे वातावरण में नमी में कमी दर्ज की गई है। इसका सीधा असर गेहूं मक्का आदि की खड़ी फसलों पर पड़ रहा है। इन दिनों गेहूं की फसल प्रौढ़ अवस्था में है। ऐसे में फसलों पर नमी नहीं बरकरार रखें तो उत्पादन में असर पड़ सकता है। इसके साथ ही किसान फसलों में सिंचाई के लिए सायंकाल ही पानी लगाएं, जिससे फसल गिरने से काफी हद तक बच सकती है। गिरी हुई फसल से जहां उस पर उत्पादन में असर पड़ता है तो वहीं इसकी कटाई में भी किसानों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper