---- 300x250_1 ----
--- 300x250_2 -----

गर्लफ्रेंड को खुश करने के लिए बॉयफ्रेंड ने अपने ही प्राइवेट पार्ट से लिया पंगा, दो दिन तक रिंग में फंसी रही जान

बैंकाक: कुछ लोग अपने प्यार को खुश रखने और उसकी नजरों में खुद को ऊंचा करने के लिए अजीबोगरीब हरकतें करते रहते हैं। यहां भी एक हैरानीजनक घटना सामने आई है। घटना इस वेलेंटाइन डे की है। थाइलैंड की राजधानी बैंकाक का निवासी इस व्यक्ति ने वेलेंटाइन डे पर अपने टूलबॉक्‍स से 3 सेंटीमीटर का बोल्‍ट निकाला और उसे पहन लिया।

इस बोल्‍ट को पहनने के लिए उसने बेबी ऑयल और लुब्रिकेंट का इस्‍तेमाल किया। शुक्रवार को उसने यह रिंग पहना था और अगले दिन उसके प्राइवेट पार्ट में सूजन आ गई। उसने पाया कि प्राइवेट पार्ट में सूजन आ गई है। इसके बाद उसने खुद इस बोल्ट को पेनिस से निकालने की कोशिश की लेकिन उसे सफलता नहीं मिली।

अंतत: पीड़‍ित को रविवार शाम को आपातकालीन सेवाओं को बुलाना पड़ा। इस तरह दो दिन तक बोल्‍ट उसके प्राइवेट पार्ट में फंसी रही। डाक्टरों ने बोल्‍ट कटर का इस्‍तेमाल करके उसके प्राइवेट पार्ट में फंसे रिंग को काटकर निकाला। आशिक ने आपातकालीन सेवाओं को बताया कि उसने पेनिस को बढ़ाने के लिए इस रिंग को पहना था ताकि वेलंटाइन डे पर उसकी गर्लफ्रेंड खुश हो जाए।

रिंग निकलने के बाद पीड़‍ित ने कहा, ‘मैं डर गया था कि कहीं मेरे प्राइवेट पार्ट को काटना न पड़ जाए। उसमें इतना ज्‍यादा सूजन आ गई थी कि लग रहा था कहीं फट न जाए।’ अब रिंग निकाले जाने के बाद आरोपी ने राहत की सांस ली है।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper