गांव में खेती करते है माता पिता, बेटे ने दूसरे ही प्रयास में क्रैक कर दिखाया यूपीएससी का एग्जाम…

UPSC की परीक्षा को भारत में होने वाली सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है। इसको क्लियर कर पाना हर किसी के बस की बात नहीं होती। इसे क्लियर करने के लिए निरंतर पढाई की आवश्यकता होती है। लोगो द्वारा कई बार एग्जाम देने पर भी ये एग्जाम क्लियर नहीं हो पाती है।

पर आपको आज ऐसे शख्स से मिलवाते है जिसने दूसरी बार में इस एग्जाम को क्लियर कर दिखाया है और सभी के सामने एक उदाहरण पेश किया है। आपको बता दे की इस शख्स का नाम अंकुश भाटी है जो जेवर के रहने वाले है। जेवर के एक छोटे से गांव रामपुर बांगर में उनका जन्म हुआ। आपकी जानकारी के लिए बता दे की अंकुष का परिवार जीवन निर्वाह के लिए मुख्यत खेती पर निर्भर है। हालाँकि उनके पिता एयरफोर्स में रह चुके है पर वे अब अपनी सेवा से छुट्टी पा चुके है।

बचपन से ही होशियार थे अंकुश :
अंकुश की शुरूआती पढाई केवि विद्यालय में हुई और पढाई में अंकुश हमेशा से ही बेहद अच्छे थे। वे हमेशा अपनी क्लास के तोप्पेर्स में से एक हुआ करते थे। उन्हें बचपन से ही पढ़ाई में काफी रूचि थी ।

अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद अंकुश ने बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से अपना ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की जहाँ अंकुश ने यूनिवर्सिटी टॉप की थी और उस समय अपने इस अचीवमेंट के लिए राष्ट्रपति से पुरस्कृत भी हुए थे। उन्हें भारत के प्रेजिडेंट ने गोल्ड मैडल दिया था।

अंकुश ने नौकरी छोड़ दिया था UPSC का एग्जाम :
आपको बता दे की ग्रेजुएशन के बाद अंकुश ने लगभग 1 साल तक नौकरी की थी। पर नौकरी करते हुए उनके मन में हमेशा ये ख्याल आता था कि वे कुछ बड़ा करे। इसीलिए उनके दिमाक में यूपीएससी का एग्जाम देने का ख्याल आया। पहली बार में तो अंकुश को सफलता नहीं मिली मगर पुनः प्रयास से दूसरी बार उन्होंने 238वि रैंक हासिल कर अपना सपना पूरा किया।

अंकुश ने बताया अपनी सफलता का राज़ :
जब दूसरी ही बारी में यूपीएससी क्लियर करने वाले अंकुश से बातें की गयी तो उन्होंने अपनी पढ़ाई करने का तरीका बताया। अंकुश ने सबसे पहले बताया कि आपको एग्जाम से पहले उनके पिछले कुछ सालों के पेपर जरूर हल कर लेने चाहिए, जिसकी वजह से आपका कांसेप्ट क्लियर हो जाता है।

अंकुश ने आगे बताया कि करंट अफेयर्स ज़रूर पढ़ें तथा किसी भी चीज को फालतु समझ कर नज़र अंदाज़ ना करे क्युकी कई बार यूपीएससी टॉपिक्स की इंटरमिक्सिंग कर देता है, मतलब कई बार यूपीएससी तीन-चार विषयों को मिलाकर प्रश्न बना देता है। इसके अंत में अंकुश ने कहा कि किसी भी उत्तर को लिखने से पहले अच्छे से सोच लेना सबसे बेहतर है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper