‘गामा पहलवान’ जैसा न कभी कोई आया और न कभी आएगा, जानिए इनकी रोचक कहानी

 


अपने बेतहाशा सपनों में भी क्या आप दो हाथियों के बच्चे को एक साथ उठाने की कल्पना कर सकते हैं? 24 साल की उम्र में ‘द ग्रेट गामा’ ने ये कारनामा कर दिखाया था. दो बच्चे हाथियों के बजाय, उन्होंने 1,200 किलोग्राम वजन वाली एक चट्टान उठा ली. जब इस चट्टान को एक संग्रहालय में स्थानांतरित कर दिया गया, तो इसे उठाने के लिए लगभग 25 पुरुष लगे थे.

कौन हैं द ग्रेट गामा?

22 मई 1878 को अमृतसर में एक कश्मीरी परिवार में जन्मे गुलाम मोहम्मद ने ‘द ग्रेट गामा’ की उपाधि अर्जित की और उन्हें दुनिया के अब तक के सबसे महान पहलवान के रूप में याद किया जाता हैं.

गामा के पिता भी पहलवान मुहम्मद अजीज बख्श थे. अपने पिता की मृत्यु के बाद दतिया के महाराजा ने गामा को ट्रेनिंग देना शुरू कर दिया. जब वह 10 वर्ष का हुआ, तब तक गामा पहले से ही घरेलू टूर्नामेंट जीत चूका था. अपने 50 वर्षों से अधिक के करियर में उसे कोई भी नहीं हरा पाया.

15 अक्टूबर 1910 को गामा को विश्व हैवीवेट चैम्पियनशिप के भारतीय संस्करण से सम्मानित किया गया था.

महान बनने की कहानी

महान बनने से पहले, गामा ने खुद को अनुशासित करने के लिए एक कठोर ट्रेनिंग कार्यक्रम का पालन किया. अकेले उनका आहार गरिष्ठ था, जिसमें 7.5 लीटर दूध और 600 ग्राम बादाम का पेस्ट शामिल था.

गामा के आहार में प्रतिदिन 2 गैलन दूध में 1.5 पाउंड बादाम का पेस्ट और फलों का रस मिलाया जाता था. वह रोज 5000 दंड बैठक और 3000 खड़े पुश अप करता और फिर अपने आर्केड में 40 पहलवानों के साथ कुश्ती करता.

गामा का पहला बड़ा मुकाबला 1895 में हुआ जब उनका सामना उस समय के भारतीय कुश्ती दिग्गज रहीम बख्श सुल्तानीवाला से हुआ. रहीम के 6’9 के भारी फ्रेम ने उन्हें जीत के अनुकूल बना दिया, लेकिन गामा एक योग्य दावेदार से कहीं अधिक साबित हुए. उनका मैच घंटों तक चला और गामा को सुर्खियों में लाते हुए मैच ड्रॉ पर समाप्त हुआ.

1910 में, जब गामा अपने पहलवान-भाई इमाम बख्श के साथ इंग्लैंड गए, तो उन्हें अंतर्राष्ट्रीय चैंपियनशिप के क्षेत्र में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई. उन्होंने चुनौती दी कि वह वहां के किसी भी पहलवान को हरा सकते हैं और फिर अमेरिकी चैंपियन बेंजामिन रोलर को सिर्फ 1 मिनट 40 सेकेंड में हराने में कामयाब रहे.

एक पोलिश चैंपियन स्टैनिस्लॉस ज़बीस्ज़्को उनके अगले प्रतिद्वंद्वी थे, जिन्होंने मैच में एक मिनट में महसूस किया कि गामा उनके लिए बहुत शक्तिशाली था और अगले 2 घंटे, 35 मिनट तक मैट पर टिके रहे. इसे कुश्ती समुदाय द्वारा शर्मनाक के रूप में देखा गया.

गामा ने ज़बीस्ज़्को को एक रीमैच के लिए चुनौती दी. लेकिन उसने गामा का सामना करने से मना कर दिया. जिसके बाद उन्हें अंतर्राष्ट्रीय चैंपियन नामित किया गया.

गोल्डन हार्ट चैंपियन

विभाजन के बाद गामा पहलवान लाहौर, पाकिस्तान में बसने के लिए चले गए. वह मोहनी रोड पर रहते थे, जहां एक हिंदू समुदाय भी रहता था. जब युद्ध के बाद भी भीड़ बॉर्डर के दोनों ओर के इलाकों में तोड़फोड़ कर रही थी, तो वे भी मोहनी रोड पर पहुंच गए.

गामा ने अपनों से ही हिन्दुओं की जान बचाने की कसम खाई. जब भीड़ उनके सामने आई तो वह हिन्दुओं के बचाने सामने अड़ गए. जिसके बाद किसी ने भी हिन्दुओं के खिलाफ ऊँगली उठानी की हिम्मत नहीं दिखाई दी.

इस घटना के बाद आंखों में आंसू लिए गामा समुदाय को बॉर्डर पर ले गए. यहाँ तक कि उन्हें एक सप्ताह तक भोजन दिया और सुरक्षित भारत पहुंचने के लिए उन्हें विदाई दी.

‘दुनिया के सबसे महान पहलवान’ ने दिल से संबंधित बिमारियों से पीड़ित होने के बाद, दयनीय स्थिति में दुनिया को छोड़ दिया. मुश्किल की घड़ी में भारतीय उद्योगपति जीडी बिड़ला हर महीने गामा को 2,000 रुपये भेजते थे, जिसके बारे में सुनकर पाकिस्तानी सरकार ने भी उनकी मदद के लिए उनकी पेंशन बढ़ा दी थी.

अपने 82 वें जन्मदिन के ठीक एक दिन बाद, पहलवान जीवन के साथ अपना मुकाबला हार गया और 23 मई 1960 को उनकी मृत्यु हो गई.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper