गिरिराज ने कांग्रेस, राजद से पूछा, ‘क्या ये हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनाना चाहते हैं’

पटना: केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह ने वारिस पठान के विवादित बयान को लेकर कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कथित ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ से पूछा है कि ‘क्या ये हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनाना चाहते हैं।’ भाजपा के ‘फायरब्रांड’ नेता गिरिराज ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी, उनके भाई और वारिस पठान पर निशाना साधा।

गिरिराज ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा, “ओवैसी का भाई-15 मिनट के लिए पुलिस हटा लो, 100 करोड़ हिंदुओं को बता देंगे। वारिस पठान -15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे। ओवैसी के मंच से ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’। ‘कांग्रेस, राजद और टुकड़े-टुकड़े गैंग से पूछना चाहते हैं क्या ये हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनाना चाहते हैं?”‘ असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी के नेता वारिस पठान ने कर्नाटक में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि हम 15 करोड़ हैं और 100 करोड़ लोगों पर भारी हैं।

इससे पहले, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने गुरुवार को पूर्णिया में कहा कि 1947 में ही सभी मुस्लिमों को पाकिस्तान भेज देना चाहिए था। उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों ने गलती की थी, जिसका खामियाजा आज भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि देश के विभाजन के कारणों में एक वाजिब नागरिकता का बड़ा सवाल था। देश विभाजन के समय चूक हुई।

उन्होंने कहा, “1947 में आजादी के समय हमारे पूर्वजों से भूल हुई। अगर उस वक्त ही मुसलमान भाइयों को वहां (पाकिस्तान) भेज दिया जाता और हिंदुओं को यहां बुला लिया जाता, तो आज यह नौबत ही नहीं आती।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper