गिरिराज सिंह ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- मुसलमानों की बढ़ती पर रोक के लिए बने कानून

नई दिल्ली: मुस्लिमों की आबादी पर बीजेपी के नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बेहद चौंकाने वाला बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि मुस्लिमों की बढ़ी आबादी देश के लिए खतरा हो सकती है।

एक न्यूज़ चैनल के मुताबिक गिरिराज ने कहा, ‘देश के अंदर बढ़ती हुई जनसंख्या और खासकर मुसलमानों की बढ़ती जनसंख्या सामाजिक समरसता के लिए तो खतरा है ही लेकिन विकास के लिए भी खतरा है। जहां-जहां हिंदुओं की जनसंख्या गिरी है वहां-वहां सामाजिक समरसता टूटी है, चाहे केरल का मल्लापुरम हो, चाहे बिहार का किशनगंज हो, चाहे उत्तर प्रदेश हो, चाहे कैराना हो, चाहे बिहार का रानीसागर हो, भोजपुर जिला हो। कई हजार उदाहरण हैं इसके।

विकास और सामाजिक समरसता के लिए यह अच्छा सूचक नहीं है, इसलिए इस पर बहस होनी चाहिए और कानून बनना चाहिए।’ ऐसा नहीं है कि गिरिराज ने पहली बार मुसलमानों को लेकर इस तरह का कोई बयान दिया हो, बल्कि इससे पहले भी उन्होंने मुसलमानों को अल्पसंख्यक के दर्जे से बाहर करने की बात कही थी। गिरिराज सिंह ने ट्विटर पर लिखा था कि, ‘हिंदुस्तान में मुस्लिम की जनसंख्या इतनी है की उन्हें अब अल्पसंख्यक से बाहर होना चाहिए,आज देश को जरूरत है अल्पसंख्यक की परिभाषा पर एक बहस की।’

उनके अलावा राजस्थान के अलवर से बीजेपी विधायक बनवारी लाल सिंघल ने सोमवार मुसलमानों को लेकर विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि हिंदू एक और दो बच्चे पैदा कर रहे हैं, उन्हें उनको शिक्षित करने की चिंता है, जबकि मुसलमानों को इस बात की चिंता है कि देश पर राज कैसे किया जाए। शिक्षा और विकास उनके लिए मायने नहीं रखते हैं। उन्होंने कहा कि यह उनकी व्यक्तिगत विचारधारा है। इससे पहले रविवार को उन्होंने फेसबुक पर मुसलमानों को लेकर अपने विचार रखे थे।

उन्होंने पोस्ट में लिखा था कि मुसलमान देश पर राज करने के मकसद से ज्यादा बच्चे पैदा कर रहे हैं। वे हिंदुओं को उनके ही देश में किनारे करने के लिए आबादी बढ़ा रहे हैं। वे चाहते हैं कि देश में मुस्लिम राष्ट्रपति, मुस्लिम प्रधानमंत्री और राज्यों में मुस्लिम मुख्यमंत्री हो।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper