गिलियड साइंसेज ने कहा- कोविड -19 के उपचार के लिए जल्द शुरू होगा रेमेडिसविर क्लीनिकल टेस्ट

नई दिल्ली: गिलियड साइंसेज ने कहा है कि वह जल्द ही कोविड -19 के उपचार के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले अपने एंटीवायरल ड्रग रेमेडिसविर के इनहेल्ड वर्जन के लिए क्लीनिकल टेस्ट शुरू करेगा। अमेरिकी दवा निर्माता ने कहा कि परीक्षण अगस्त में शुरू होगा। गिल्डिड साइंसेज ने एक बयान में कहा, “रेमेडिसविर, हमारी खोजी एंटीवायरल दवा, वर्तमान में अस्पताल में बीमारी के शुरुआती चरणों में दैनिक रूप से रोगियों को दी जाती है।”

गिलियड साइंसेज ने कहा कि हम पहले ही इस बारे में बहुत कुछ जान चुके हैं कि अपेक्षाकृत कम समय में रेमेडिसविर कैसे काम करता है। Remdesivir के उपयोग अब दुनिया भर के आपातकालीन मामलों में किया जा रहा है। और फिर भी हमे कोविद -19 के खिलाफ मदद करने के लिए रीमेडिसविर की पूरी क्षमता की खोजना बाकी है।

दवा निर्माता कंपनी ने कहा कि क्लीनिकल डेवलप्मेंट की अगली लहर में, यह अन्य उपचारों और अतिरिक्त रोगी समूहों के साथ संयोजन में रेमेडिसविर का अध्ययन करेगा। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इन्फेक्शस डिसीज (एनआईएआईडी) के एक अध्ययन में, यह पाया गया कि रेमेडिसविर से औसतन चार दिनों में रोगियों के सिम्पल अध्ययन में कमी की है, जो अस्पताल में हैं लेकिन ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं है।

दूसरी ओर योग गुरु बाबा रामदेव आज कोविड-19 के इलाज के लिए ‘दिव्य कोरोनिल टैबलेट’ को लॉन्च कर दिया। कोरोना की पहली आयुर्वेदिक दवा कोरोनिल के लॉन्चिंग के मौके पर बाबा रामदेव ने दावा किया कि इस दवा का जिन मरीजों पर क्लीनिकल ट्रायल किया गया, उनमें 69 फीसदी मरीज केवल 3 दिन में पॉजीटिव से निगेटिव और सात दिन के अंदर 100 फीसद रोगी कोरोना से मुक्त हो गए। दवा का प्रयोग 280 लोगों पर किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper